मेरी पांगी

पांगी में नहीं बनेगा 500 मेगावाट जल विद्युत Project, दो पंचायतों ने जाहिर की आपत्ति

hydroelectric project will not be built in Pangi, two panchayats have expressed their objection

विज्ञापन

पांगी: जिला चंबा के जनजातीय क्षेत्र पांगी के मुख्यालय किलाड़ से महज कुछ दूरी पर स्थित लूज व धरवास पंचायत के बीच प्रस्तावित 500 मेगावाट जल विद्युत परियोजना डूगर अब विवादों में आ गया है। आपको बता दें कि प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के तत्वाधान में एक पर्यावरणीय जनसुनवाई का आयोजन मुख्यालय किलाड़ में किया गया था । जिसमें प्रोजेक्ट से प्रभावित होने वाली पंचायतों के ग्रामीणों ने भाग लिया हुआ था। जिसमें धरवास व लूज पंचायत के ग्रामीणों ने इस प्रोजेक्ट को बनाने पर क्षेत्र का नुकसान बताया हुआ है और आपत्ति जाहिर की हुई है। उन्होंने बताया कि इससे उनके क्षेत्र में काफी नुकसान होगा।

आपको बता दें कि जहां प्रोजेक्ट बनने से घाटी की कई समस्याओं का समाधान होगा। नुकसान झेलने के लिए घाटी के लोग तैयार नहीं है । इस संबंध में जानकारी देते ग्राम पंचायत लूज के प्रधान ने बताया कि मुख्यालय किलाड़ में 2 पंचायतों ने अपनी आपत्ति जाहिर की हुई है। उन्होंने बताया वह अपने पंचायत के ग्रामीणों को समझाने की कोशिश कर रहे है। यदि यह प्रोजेक्ट पांगी घाटी में बन जाता है तो क्षेत्र के लोगों की कई समस्याओं का समाधान हो सकता है।

प्रोजेक्ट लगने से क्या-क्या फायदे हैं
पांगी घाटी में अगर प्रस्तावित 500 मेगावाट जल विद्युत परियोजना प्रोजेक्ट स्थापित किया जाता है तो उसे पांगी घाटी की 19 पंचायतों की विद्युत की समस्या हल हो सकती है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों के बेरोजगार युवाओं को रोजगार का सुनहरा मौका मिल सकता है । प्रोजेक्ट के बनने से पांगी घाटी में कई विकास कार्य होंगे। इस प्रोजेक्ट के पांगी घाटी में स्थापित होने के बाद पांगी घाटी में टूरिज्म को बढ़ावा मिल सकता है

यह भी पढ़ें-  पांगी हिल्स की ग्रेडिंग को पूरे हिमाचल में किया जाएगा कॉपी: अनुराग सिंह ठाकुर
विज्ञापन
वायरल न्यूज़
फिल्मी दुनियां
आम-मुद्दा
हमारी टीम

Patrika News Desk

Publisher: Patrika News Himachal हम अपने पाठकों द्वारा कमेंट्स, मेल और फोन के जरिए दिए गए सुझावों और प्रतिक्रिया का खुले दिल से स्वागत करते हैं। कंटेंट को लेकर अपने पाठकों से अगर किसी तरह की कोई शिकायत मिलती है तो हम तुंरत ही उस खबर को रोक देते हैं और सबसे पहले फैक्ट्स को चेक करते हैं। फैक्ट्स की हर प्रकार से जांच के बाद ही हम खबर को प्रकाशित करते हैं। फैक्ट्स की प्रामाणिकता और प्रभाव को देखते हुए मिस्टेक/एरर को हम हटा या सुधार देते हैं
Back to top button
Snow