Himachal News || प्रभावित परिवारों को मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने दिये 14 करोड़ रुपये,

Himachal News || प्रभावित परिवारों को मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने दिये 14 करोड़ रुपये,

Himachal News || हमीरपुर: मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने इस वर्ष बरसात के दौरान भारी बारिश, भू-स्खलन तथा बाढ़ से आई आपदा से प्रभावित परिवारों के लिए ‘पुनर्वास’ कार्यक्रम के तहत आज हमीरपुर जिला में आपदा प्रभावित परिवारों को 14 करोड़ रुपए से अधिक की राहत राशि प्रदान की, जिनमें 122 परिवारों को मकान […]

Himachal News || हमीरपुर: मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने इस वर्ष बरसात के दौरान भारी बारिश, भू-स्खलन तथा बाढ़ से आई आपदा से प्रभावित परिवारों के लिए ‘पुनर्वास’ कार्यक्रम के तहत आज हमीरपुर जिला में आपदा प्रभावित परिवारों को 14 करोड़ रुपए से अधिक की राहत राशि प्रदान की, जिनमें 122 परिवारों को मकान पूरी तरह से क्षतिग्रस्त होने पर पहली किस्त के रूप में 3-3 लाख रुपए जारी किए। ऐसे परिवारों को कुल पहली किस्त के रूप में 3.66 करोड़ रुपए जारी किए गए।मुख्यमंत्री ने जिला के दो बेघर परिवारों को भूमि के दस्तावेज सौंपे तथा आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हुए 555 मकानों की मरम्मत के लिए 1-1 लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की। उन्हें कुल 5.55 करोड़ की राशि जारी की गई। इसके अलावा उन्होंने प्रभावित 8 दुकानों और ढाबों मालिकों को भी एक-एक लाख रुपए की मुआवजा राशि प्रदान की। उन्होंने क्षतिग्रस्त 622 गौशालाओं की मरम्मत के लिए 3.11 करोड़ रुपए, आपदा में अपना सामान गंवा चुके 71 परिवारों को 50-50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की।

जिला हमीरपुर के प्रभावित परिवारों को मुख्यमंत्री ने जारी किए 14 करोड़ रुपये

इसके अलावा आपदा के कारण जिला हमीरपुर में क्षतिग्रस्त हुई 1103 कनाल भूमि की एवज में 10 हजार रुपए प्रति बीघा की दर से कुल 55 लाख रुपए तथा 1760 कनाल भूमि पर किसानों की फसल को हुए नुकसान पर 4 हजार रुपए प्रति बीघा की दर से 35.20 लाख रुपए की मुआवजा राशि प्रदान की। मुख्यमंत्री ने 27 पशुओं की मृत्यु पर पशुपालकों को 8 लाख रुपए की राशि जारी की। मुख्यमंत्री ने हमीरपुर में विद्युत बोर्ड का चीफ इंजीनियर कार्यालय खोलने तथा हमीरपुर शहर की बिजली की तारों को भूमिगत करने के लिए 20 करोड़ रुपये प्रदान करने की घोषणा करते हुए कहा कि एक वर्ष में शहर की बिजली की तारों को भूमिगत किया जाएगा। उन्होंने वर्षों से लम्बित बस स्टैंड के निर्माण के लिए पहली किस्त के रूप में 2 करोड़ रुपये प्रदान करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि नेरी में तीन करोड़ रुपये की लागत से बागवानी विश्वविद्यालय के छात्रावास का निर्माण किया जाएगा।

यह भी पढ़ें ||  Himachal Politics || कांग्रेस के बागी विधायकों पर एक्शन के बीच होगी कैबिनेट की बैठक, युवाओं को मिलेगी बड़ी खुशखबरी

हमीरपुर में खुलेगा बिजली बोर्ड का चीफ इंजीनियर कार्यालय

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार आमजन और गरीब की सरकार है तथा उनके दुःख-दर्द को बेहतर ढंग से जानती है। आपदा के दौरान राज्य सरकार ने 48 घंटे में बिजली, पानी जैसी आवश्यक सेवाएं बहाल की तथा फंसे हुए 75 हजार पर्यटकों और 15 हजार गाड़ियों को सुरक्षित निकाला। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में इतिहास में पहले कभी भी इतने व्यापक पैमाने पर क्षति नहीं हुई लेकिन भाजपा नेता विधानसभा सत्र की मांग करते रहे। जब सत्र बुलाया तो तीन दिन की चर्चा के बाद भी आपदा प्रभावितों के समर्थन में लाए गए प्रस्ताव का साथ नहीं दिया। उन्होंने कहा कि विशेष पैकेज के लिए वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से भी मिले, लेकिन आज तक केंद्र सरकार ने एक पैसे की मदद नहीं की। यही नहीं नियमानुसार 10 हजार करोड़ रुपए के क्लेम केंद्र को भेजे गए हैं।

यह भी पढ़ें ||  Himachal News || मेरी वजह से हिमाचल में कांग्रेस राज्यसभा चुनाव हारी, Chief Minister Sukhwinder Singh Sukhu ने खुद को ठहराया जिम्मेवार

शहर में बिजली तारों को भूमिगत करने के लिए 20 करोड़ रुपये देने की घोषणा की

मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा के सांसदों ने राहत पैकेज के लिए कोई प्रयास नहीं किए और न ही किसी केंद्रीय नेता से मांग नहीं की। राज्य सरकार ने 75 हजार करोड़ का कर्ज और सरकारी कर्मचारियों की 10 हजार करोड़ की देनदारियां होने के बावजूद आपदा प्रभावितों के लिए 4500 करोड़ रुपए का विशेष राहत पैकेज जारी किया है। जिसके तहत पूरी तरह से क्षतिग्रस्त घर पर दिए जाने वाले 1.30 लाख रुपये के मुआवजे को साढ़े पांच गुणा बढ़ाकर सात लाख रुपये किया गया है। इसके अलावा कच्चे मकान के आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त होने पर मुआवजे को 25 गुणा बढ़ाते हुए 4000 रुपये से एक लाख रुपये तथा पक्के घर को आंशिक क्षति होने पर मुआवजे को साढ़े 15 गुणा बढ़ाकर एक लाख रुपये किया गया है। इसके साथ-साथ बिजली व पानी का निःशुल्क कनेक्शन तथा 280 रुपए प्रति बोरी की दर से सीमेंट उपलब्ध करवाया जाएगा।

यह भी पढ़ें ||  Himachal News || हिमाचल में सुक्खू की कुर्सी पर मंडराया खत्तरा, विधायकों को नाराज करना पड़ा भारी

क्षतिग्रस्त होने पर मुआवजे को 25 हजार रुपये से चार गुणा बढ़ाकर एक लाख रुपये किया

ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि दुकान तथा ढाबा के क्षतिग्रस्त होने पर मुआवजे को 25 हजार रुपये से चार गुणा बढ़ाकर एक लाख रुपये किया गया है। गौशाला को हुए नुकसान की भरपाई की राशि 3 हजार रुपये से बढ़ाकर 50 हजार रुपये की गई है। प्रदेश सरकार किराएदारों के सामान के नुकसान पर 2500 रुपये की मुआवजा राशि में 20 गुणा बढ़ोतरी कर 50 हजार रुपये की सहायता राशि प्रदान करेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पुरानी पेंशन लागू करने पर केंद्र सरकार ने हिमाचल प्रदेश पर कई प्रतिबंध लगा दिए। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के पास 6600 करोड़ रुपए लोन की लिमिट है और राज्य सरकार ने अब तक 4100 करोड़ रुपए का लोन लिया है। उन्होंने कहा कि पूर्व भाजपा सरकार ने राजनीतिक लाभ के लिए अपने कार्यकाल के अंतिम वर्ष में 1100 नए शिक्षण संस्थान खोले। नई सरकार बनने के बाद रात को अधिकारियों के साथ बैठकें की गई और राज्य को कर्ज की दलदल से बाहर निकालने के लिए प्रयास किए, ताकि हिमाचल प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश को चार वर्षों में आत्मनिर्भर बनाने और 10 वर्षों में देश में सबसे समृद्ध राज्य बनाने के लिए प्रयास कर रही है।

सरकार 6000 अध्यापकों, 2000 से अधिक वन मित्रों के पद भरने जा रही

ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार अपने संसाधनों में वृद्धि करने के लिए प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। इस वर्ष हिमाचल प्रदेश सरकार के राजस्व में 1100 करोड़ रुपये की वृद्धि का अनुमान है। शराब के ठेकों की नीलामी से राज्य सरकार को 500 करोड़ रुपये का अतिरिक्त राजस्व मिलेगा।उन्होंने कहा कि हमीरपुर में जल्द ही राज्य चयन आयोग शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार 6000 अध्यापकों, 2000 से अधिक वन मित्रों के पद भरने जा रही है। इसके साथ-साथ पुलिस भर्ती में महिलाओं को 30 प्रतिशत आरक्षण प्रदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश भर में 30 व 31 अक्तूबर, 2023 को इंतकाल अदालतों का आयोजन किया, जिसके परिणाम बेहतर रहे तथा इंतकाल के लम्बित 41,907 मामलों में से 31,105 का निपटारा कर दिया गया। उन्होंने कहा कि आगामी 1 व 2 दिसंबर को पुनः प्रदेश भर में इस प्रकार की विशेष अदालत का आयोजन किया जाएगा, जिसे राजस्व लोक अदालत का नाम दिया गया है। इस विशेष अदालत में इंतकाल के साथ-साथ तकसीम के लम्बित मामलों का प्राथमिकता के आधार पर निपटारा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार राजस्व से संबंधित लंबित मामलों को 20 जनवरी तक निपटाने का प्रयास कर रही है।

100 करोड़ रुपये का खनन घोटाला तथा 2500 करोड़ का क्रिप्टो करंसी घोटाला

ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा ‘‘मेडिकल कॉलेज कांग्रेस पार्टी की देन है जिसे मैं लेकर आया हूं, जिसमें कैंसर का बेस्ट सेंटर स्थापित करने जा रहे हैं। धीरे-धीरे राज्य की आर्थिक नींव को मजबूत करते हुए आगे बढ़ रहे हैं। राज्य सरकार ने अपने अधिकार वापस लेने के लिए लड़ाई शुरू की है। धौलासिद्ध, लूहरी और सुन्नी बिजली परियोजनाओं में भी हिमाचल के लोगों को अधिकार लेकर रहेंगे।’’उन्होंने पिछली भाजपा सरकार के कार्यकाल में हिमाचल प्रदेश कर्मचारी चयन आयोग में पेपर बेचे गए जिसे देखते हुए राज्य सरकार ने इसे भंग कर दिया। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार के कार्यकाल में पुलिस भर्ती घोटाला, 100 करोड़ रुपये का खनन घोटाला तथा 2500 करोड़ का क्रिप्टो करंसी घोटाला हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में पोस्ट कोड 817 और 939 की भर्ती का मामला पिछले कई वर्षों से न्यायालय में लम्बित था, लेकिन राज्य सरकार के प्रयासों से इन मामलों की सुनवाई में तेजी आई और जल्द ही इन भर्ती परिक्षाओं के परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे।

अनाथ बच्चों को प्रमाण-पत्र तथा एक भूमिहीन अनाथ बच्चे को जमीन के दस्तावेज भी सौंपे

ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने जिला हमीरपुर में 4 अनाथ बच्चों को प्रमाण-पत्र तथा एक भूमिहीन अनाथ बच्चे को जमीन के दस्तावेज भी सौंपे। उन्होंने कहा कि जिला के 252 बच्चों को चिल्ड्रन ऑफ द स्टेट के रूप में अपनाया गया है, जिसमें से 105 बच्चे 18 वर्ष की आयु तक तथा 147 बच्चे 18 से 27 वर्ष की आयु के हैं।ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि मुख्यमंत्री बनने के बाद वह सचिवालय न आकर बालिका आश्रम टूटीकंडी गए। राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री सुख-आश्रय योजना आरंभ की, जिसमें 27 वर्ष तक इन बच्चों की देखभाल राज्य सरकार की जिम्मेदारी होगी। अनाथ बच्चों को उच्च शिक्षा, आत्मनिर्भर बनाने के लिए आर्थिक सहायता के साथ घर बनाने के लिए मदद व भूमि भी दे रही है।मुख्यमंत्री ने श्रीनिवास रामानुजन डिजिटल स्टूडेंट योजना के तहत जिला हमीरपुर के 13 मेधावी विद्यार्थियों को टेबलेट भी प्रदान किए।

विधायक इंद्र दत्त लखनपाल ने कहा कि भाजपा ने आपदा के दौरान मात्र राजनीति की और विधानसभा में लाए गए प्रस्ताव का समर्थन नहीं किया। उन्होंने कहा कि आपदा प्रभावितों के लिए राज्य सरकार का 4500 करोड़ रुपये विशेष राहत पैकेज पूरे देश के लिए मिसाल है, जबकि केंद्र से कोई भी मदद नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने आपदा प्रभावितों का दर्द बांटा और फंसे हुए पर्यटकों को सुरक्षित निकाला। आपदा में हुए बेहतर कार्यों के लिए उनके प्रयासों की प्रदेश भर में सराहना हुई। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पुरानी पेंशन लागू कर अपनी गारंटी पूर्ण कर दी है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने 680 करोड़ रुपए की राजीव गांधी स्वरोजगार स्टार्ट-अप योजना के प्रथम चरण की शुरूआत की है, जिसके तहत ई-टैक्सी की खरीद पर राज्य सरकार 50 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान कर रही है। उन्होंने हिमाचल प्रदेश को कर्ज मुक्त बनाने के लिए किए जा रहे प्रयासों के लिए मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू की सराहना की और कहा कि आने वाले समय में राज्य समृद्ध बनेगा।

विधायक सुरेश कुमार ने कहा कि आपदा के दौरान प्रदेश में जान-माल का भारी नुकसान हुआ, जिससे कई परिवार बुरी तरह से प्रभावित हुए। उन्होंने त्रासदी के दौरान हिमाचल प्रदेश को सक्षम नेतृत्व प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री को बधाई दी और कहा कि उन्होंने लोगों के बीच जाकर लोगों की मदद की। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश की आपदा को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने के लिए राज्य सरकार ने विधानसभा प्रस्ताव में प्रस्ताव लाया लेकिन भाजपा ने इसका समर्थन नहीं किया।विधायक आशीष शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू रात-दिन प्रदेश की सेवा में जुटे हैं। जब आपदा आई तो मुख्यमंत्री ने ग्राउंड जीरो पर रहकर आवश्यक सेवाओं को बहाल करवाया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने आपदा प्रभावितों के लिए विशेष राहत पैकेज की घोषणा की है, जिसमें मुआवजा राशि में ऐतिहासिक बढ़ौतरी की गई है। इस विशेष पैकेज से प्रभावित परिवारों की आवश्यक सहायता हुई है, जिसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।

मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार सुनील शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने जन कल्याण की एक इबारत लिखना शुरू की और प्रदेश के अनाथ बच्चों के लिए मुख्यमंत्री सुख-आश्रय योजना आरंभ की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने स्वास्थ्य की परवाह किए बगैर निरंतर रात को 11 बजे तक अधिकारियों के साथ बैठकें की और प्रदेश के विकास के लिए योजनाएं बनाईं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की आर्थिक स्थिति खराब होने तथा केंद्र से कोई भी मदद न मिलने के बावजूद आपदा प्रभावितों के लिए विशेष राहत पैकेज लेकर आए।जिला कांग्रेस अध्यक्ष एवं कांगड़ा सहकारी बैंकके अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने आपदा में किए गए कार्यों के लिए मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू की सराहना की।इससे पूर्व, उपायुक्त हेमराज बैरवा ने मुख्यमंत्री का हमीरपुर पधारने पर स्वागत किया और आपदा के दौरान जिला में उठाए गए कदमों की विस्तार से जानकारी दी।

इस अवसर पर विधायक इंद्र दत्त लखनपाल ने आपदा राहत कोष के लिए बाबा बालक नाथ ट्रस्ट की ओर से मुख्यमंत्री को 5 करोड़ रुपए का चेक भेंट किया। कांगड़ा सहकारी बैंक के अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने भी आपदा राहत के लिए 89 लाख रुपए का चेक मुख्यमंत्री को भेंट किया। पेंशनर संघ ने भी 71 हजार रुपए का चेक भेंट किया। इससे पूर्व, मुख्यमंत्री ने हमीरपुर के गांधी चौक पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पुष्पाजंलि भी अर्पित की। इस अवसर पर कांगड़ा सहकारी प्राथमिक कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक के अध्यक्ष राम चंद्र पठानिया, पूर्व विधायक मनजीत डोगरा, कांग्रेस नेता डॉ. पुष्पिंदर वर्मा व अभिषेक राणा, पुलिस अधीक्षक आकृति शर्मा और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे

Focus keyword

ट्रेंडिंग

Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर अब अरबपति तक पीने आते हैं चाय Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर अब अरबपति तक पीने आते हैं चाय
Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर...
IPS Officer Success Story || IPS पति-पत्नी का अनोखा अंदाज, काम करने का अलग अंदाज, लोग करते हैं तारीफ
Success Story || 42 साल की मां ने अपने 24 साल के बेटे के साथ पास की PCS की परीक्षा, दोनों एक साथ बने अफसर
PPI Card For Public Transport || RBI ने दी बैंको को दी ये मंजूरी, रेल, मेट्रो, बस, पार्किंग पेमेंट होगा आसान
Success Story || 1.5 लाख महीने की सरकारी नौकरी छोड़ बने IAS, जॉब के साथ की तैयारी, UPSC में पाई 8वीं रैंक
kalyanaraman Success Story || कभी कर्ज लेकर शुरू की थी सोने की दुकान, आज खड़ी कर दी 17,000 करोड़ की कल्याण ज्वेलर्स कंपनी