पंजाब/जम्मूपत्रिका स्पशेल

धोखा देने वालों को क्यों बोलते हैं 420? जानें इसके पीछे की रोचक वजह

विज्ञापन

जब कभी कोई धोखा देता है तो हम आम बोलचाल में उसको 420 बोलते हैं। कभी दोस्तों के बीच भी हंसी मजाक में इस संख्या का प्रयोग करते हैं। आपने भी अपने किसी दोस्त को 420 जरूर बोला होगा जो थोड़ा तेज होता है। लेकिन कभी आपने सोचा है कि हम इस संख्या को ही क्यों बोला करते हैं।किसी और संख्या जैसे 421 या 320 को क्यों नहीं बोलते हैं जब भी हमको धोखे से जुड़ी कोई बात बोलनी हो। आखिर 420 संख्या में ऐसा क्या है कि हमेशा इसी संख्या का इस्तेमाल किया जाता है। क्या आपको इसका कारण पता है। अगर आपका जवाब नहीं है तो चलिए हम आपको आप इस बारे में जानकारी देते हैं।

भारतीय दंड संहिता में छिपी है वजह

धोखाधड़ी करने वालों को 420 बोलने की वजह भारतीय दंड संहिता में छिपी हुई है। दरअसल आईपीसी में अलग-अलग धाराएं हैं जो अलग-अलग अपराध करने वालों के खिलाफ लगाई जाती हैं। जैसे हत्या की धारा 302 है, या हत्या के प्रयास की धारा 307 है। इसी तरह जो लोग भारत में धोखाधड़ी करते हैं, उनके लिए भी खास धारा बनाई गई है। भारतीय दंड संहिता में ठगी, धोखाधड़ी या बेईमानी करने वालों के लिए जो धारा बनी है वो 420 है। जी हां धोखेबाजों के ऊपर जब भी थाने में केस दर्ज होता है तो पुलिस की ओर से 420 धारा लगाई जाती है। इसी के तहत उसके खिलाफ केस चलता है और कानूनी कार्रवाई की जाती है।

यह भी पढ़ें-  viral: रसगुल्ला बुलाती हैं लड़कियां”, लड़कों ने प्रिंसिपल को लेटर लिखकर बयां किया क्लास का दर्द, पढ़ें पूरा पत्र

जानें क्या है धारा 420

आईपीसी के तहत अगर भारत में रहने वाला कोई नागरिक किसी दूसरे नागरिक को धोखा देता है। उसके साथ बेईमानी या छलकपट करता है, तो उस व्यक्ति के खिलाफ धारा 420 लाई जाती है। किसी की संपत्ति के साथ हेरफेर करना या उसे खत्म करना भी इसी धारा के तहत आता है। इतना ही नहीं अगर वो इस काम में किसी की मदद भी करता है, तो वह अपराधी माना जाता है

इतना ही नहीं अगर कोई नागरिक अपने स्वार्थ के लिए किसी अन्य नागरिक संग जालसाजी करता पाया जाता है, उसके फेक हस्ताक्षर कर, आर्थिक और मानसिक दबाव बनाते हुए उसकी संपत्ति को अपना बना लेता है तो उसके खिलाफ भी धारा 420 लगाई जा सकती है। इस धारा को काफी गंभीर धारा माना जाता है। ये अपराध गैर जमानती होता है यानि थाने से इस अपराध के आरोपी को जमानत नहीं मिल सकती है। इसके लिए प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट की अदालत में सुनवाई की जाती है। जज ही फैसला करते हैं कि जमानत दी जाए या नहीं। वहीं इन मामलों में 7 साल की सजा होती है और जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

विज्ञापन
वायरल न्यूज़
फिल्मी दुनियां
आम-मुद्दा
हमारी टीम

Patrika News Desk

Publisher: Patrika News Himachal हम अपने पाठकों द्वारा कमेंट्स, मेल और फोन के जरिए दिए गए सुझावों और प्रतिक्रिया का खुले दिल से स्वागत करते हैं। कंटेंट को लेकर अपने पाठकों से अगर किसी तरह की कोई शिकायत मिलती है तो हम तुंरत ही उस खबर को रोक देते हैं और सबसे पहले फैक्ट्स को चेक करते हैं। फैक्ट्स की हर प्रकार से जांच के बाद ही हम खबर को प्रकाशित करते हैं। फैक्ट्स की प्रामाणिकता और प्रभाव को देखते हुए मिस्टेक/एरर को हम हटा या सुधार देते हैं
Back to top button
Snow