हिमाचल में प्राकृतिक आपदा के बीच सुक्खू सरकार लेगी 500 करोड़ का कर्ज

हिमाचल में प्राकृतिक आपदा के बीच सुक्खू सरकार लेगी 500 करोड़ का कर्ज
शिमला। हिमाचल में आर्थिक तंगी के बीच आई प्राकृतिक आपदा ने जमकर कहर बरपाया। इसी प्राकृतिक आपदा के बीच अब हिमाचल की सुखविंदर सिंह सुक्खू की सरकार 500 करोड़ का कर्ज लेने जा रही है। यह कर्ज 15 वर्षों के लिए लिया जाएगा। कर्ज लेने के लिए सरकार की तरफ से कवायद शुरू हो गई है।बताया […]

शिमला। हिमाचल में आर्थिक तंगी के बीच आई प्राकृतिक आपदा ने जमकर कहर बरपाया। इसी प्राकृतिक आपदा के बीच अब हिमाचल की सुखविंदर सिंह सुक्खू की सरकार 500 करोड़ का कर्ज लेने जा रही है। यह कर्ज 15 वर्षों के लिए लिया जाएगा। कर्ज लेने के लिए सरकार की तरफ से कवायद शुरू हो गई है।बताया जा रहा है कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार कर्ज लेने के लिए 5 सितंबर को नीलामी प्रक्रिया पूरी करेगी। उसके बाद छह सितंबर को कर्ज की राशि सरकार के खाते में जमा हो जाएगी। प्रदेश सरकार को यह कर्ज 15 वर्षों यानी 6 सितंबर 2038 को वापस लौटाना होगा। इस कर्ज के साथ ही हिमाचल पर 76,500 करोड़ का कर्ज हो जाएगा। बता दें कि प्रदेश की सुक्खू सरकार ने इससे पहले जून और जुलाई माह के बीच करीब 2000 करोड़ का कर्ज लिया था। इस कर्ज के साथ प्रदेश की सुक्खू सरकार इस वित्तीय वर्ष में अब तक 2300 करोड़ का कर्ज ले लेगी। यानी यानि मौजूदा सरकार अपने कार्यकाल में अब तक करीब 7500 करोड़ रुपए कर्ज ले चुकी है।

बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू की सरकार द्वारा लिया जा रहा यह 500 करोड़ का कर्ज प्रदेश के विकास कार्यों और कर्मचारियों और पेंशनरों को दिए जाने वाले वेतन, पेंशन की अदायगी पर खर्च किया जाएगा। बता दें कि हिमाचल के विकास कार्य कर्ज के सहारे चल रहे हैं। हर वर्ष कई हजार करोड़ प्रदेश पर चढ़ रहा है। अब तक यह कर्ज 76500 करोड़ तक पहुंच गया है, जिसका आगे भी इसी तरह से बढ़ने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें ||  Himachal Cabinet Meeting || PTA टीचरों के लिए खुशखबरी, मल्टी टॉस्क वर्करों के 1​ हजार पदों पर निकली बंपर भर्ती

कर्मचारियों पेंशनरों को देने के लिए सरकार के पास नहीं है पैसा

प्रदेश की सुक्खू सरकार के ऊपर इस समय कर्मचारियों.पैंशनर्ज की करीब 12000 करोड़ रुपए की वित्तीय अदायगियां लंबित हैं। यह राशि नए वेतनमान के एरियर व डीए की लंबित राशि है, जिसे अभी तक चुकाया नहीं जा सका है। वहीं इस सब के बीच प्रदेश में पिछले तीन माह में जमकर प्राकृतिक आपदा ने कहर बरपाया है।

यह भी पढ़ें ||  Himachal Weather Update || बारिश-बर्फबारी का रेड अलर्ट, पांगी में 1 फीट ताजा हिमपात, शिक्षण संस्थानों में छुट्टी घो​षित

प्राकृतिक आपदा ने बढ़ाई मुश्किलें

प्रदेश पर आई इस प्राकृतिक आपदा से भी हिमाचल पर वित्तीय संकट छा गया है। केंद्र से ज्यादा मदद ना मिलने से प्रदेश के आर्थिक हालात सुधारना सुक्खू सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती बन गई है। वहीं प्रदेश सरकार की परेशानी इसलिए भी और ज्यादा बढ़ गई है, क्योंकि केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष में कर्ज लेने की सीमा में 5500 करोड़ रुपए की कटौती कर दी है। जहां पहले प्रदेश सरकार वित्त वर्ष के दौरान 14500 करोड़ रुपए तक कर्ज ले सकती थी लेकिन अब 8500 करोड़ रुपए तक ही कर्ज लिया जा सकेगा।

यह भी पढ़ें ||  Himachal News || कर्मचारी और पेंशनर्स के एरियर को लेकर आदेश जारी यह फार्मूला हुआ

ट्रेंडिंग

Anti Hangover Medicine || मार्केट में आ गई है शराबियों के लिए एंटी हैंगओवर Myrkl गोली, लिवर पर नहीं पड़ेगा अब बुरा असर Anti Hangover Medicine || मार्केट में आ गई है शराबियों के लिए एंटी हैंगओवर Myrkl गोली, लिवर पर नहीं पड़ेगा अब बुरा असर
हाइलाइट्समार्केट में आ गई है शराबियों के लिए एंटी हैंगओवर Myrkl गोली60 मिनट के भीतर पी गई 70 प्रतिशत शराब...
UPSC Exam || IAS और IPS अधिकारी बनने के लिए कौन सी डिग्री सबसे अच्छी है? जानिए यूपीएससी की तैयारी कैसे करें
Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर अब अरबपति तक पीने आते हैं चाय
IPS Officer Success Story || IPS पति-पत्नी का अनोखा अंदाज, काम करने का अलग अंदाज, लोग करते हैं तारीफ
Success Story || 42 साल की मां ने अपने 24 साल के बेटे के साथ पास की PCS की परीक्षा, दोनों एक साथ बने अफसर
PPI Card For Public Transport || RBI ने दी बैंको को दी ये मंजूरी, रेल, मेट्रो, बस, पार्किंग पेमेंट होगा आसान
×