Himachal Politics || हिमाचल में कांग्रेस और भाजपा में विधानसभा उपचुनाव में दिलचस्प मुकाबला,

लोकसभा चुनाव के साथ ही इस बार अयोग्य घोषित किए गए कांग्रेस के छह विधायकों के क्षेत्रों में विधानसभा उपचुनाव भी होने से चुनावी माहौल दिलचस्प हो गया है।
Himachal Politics || हिमाचल में कांग्रेस और भाजपा में विधानसभा उपचुनाव में दिलचस्प मुकाबला,

​शिमला:  हिमाचल (Himachal ) की सियासत में तूफान की लहरें कम नहीं हुई हैं. इसका असर आगामी लोकसभा चुनाव (loksabha election) में दिखेगा.भाजपा को उम्मीद है कि वह इस लाभ का फायदा उठाएगी। अगर हिचकोले नहीं रुके तो कांग्रेस की नाव (foundation of congress) का भंवर से निकलना मुश्किल (difficult ) हो जाएगा. कांग्रेस को उम्मीद थी कि उसे अपनी सरकार होने का फायदा मिलेगा, अभी डेढ़ साल ही हुए हैं इसलिए ज्यादा एंटीइनकंबेंसी नहीं होगी.लोकसभा चुनाव के साथ-साथ इस बार कांग्रेस के छह अयोग्य विधायकों के निर्वाचन क्षेत्रों में उपचुनाव (byelections) भी दिलचस्प हो गया है।यह चुनाव सिर्फ कांग्रेस और भाजपा के बारे में नहीं है, बल्कि देश के भविष्य के बारे में भी है। राज्यसभा चुनाव के बाद यह सरकार के लिए एक और परीक्षा होगी.

लेकिन चुनाव से कुछ ही दिन पहले राज्यसभा सीट (rajysabha seat) के लिए चुनाव के दौरान पार्टी के छह विधायकों की बगावत ने पूरा परिदृश्य और समीकरण बदल दिया है.बीजेपी इन अयोग्य विधायकों (MLA's) की मदद से कांग्रेस को ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाने की फिराक में है.पिछले चुनाव में बीजेपी ने राज्य की चारों सीटों पर जीत हासिल की थी!  बाद में, मंडी उपचुनाव (byelection) में कांग्रेस की प्रतिभा सिंह राज्य सरकार के प्रति सहानुभूति और कुछ नाराजगी के कारण सीट हार गईं। एक तरफ कांग्रेस डैमेज कंट्रोल में जुटी है तो दूसरी तरफ बीजेपी ने अपने दो मौजूदा सांसदों को उम्मीदवार घोषित कर दिया है जिनकी जीत पर उसे भरोसा है. केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और सुरेश कश्यप क्रमश: हमीरपुर और शिमला से आगे चल रहे हैं।

Aggarwal
बीजेपी (bjp)  को इस बार न सिर्फ मोदी सरनेम का सहारा है, बल्कि कांग्रेस में असंतोष से भी उम्मीद है कि वह चार सीटें जीतकर पार्टी के 400 प्लस मिशन में अपना सौ फीसदी देगी.मंडी को लेकर मंथन और कांगड़ा को लेकर कांग्रेस के बागियों के भविष्य पर नजर.मंडी से अगर कोई दूसरा मजबूत उम्मीदवार( candidate) नहीं है तो वो हैं जय राम ठाकुर. कांगड़ा (Kangra ) से अयोग्य विधायक और पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा की भी चर्चा थी, लेकिन अब देखना होगा कि वह विधानसभा उपचुनाव (assembly byelection) लड़ते हैं या लोकसभा चुनाव. ओबीसी (obc)  चेहरों पर भी विचार किया जा सकता है.कांग्रेस ने अभी तक अपना उम्मीदवार (candidate) तय नहीं किया है!  पिछले कई चुनावों से कांग्रेस के पास हमीरपुर में कोई मजबूत उम्मीदवार नहीं है और इस बार भी अनुराग ठाकुर को टक्कर देने वाला कोई नजर नहीं आ रहा है!  यह कांग्रेस के लिए भी नाक का सवाल है क्योंकि मुख्यमंत्री (chief minister) और उपमुख्यमंत्री दोनों का विधानसभा क्षेत्र (assembly area) इसी संसदीय क्षेत्र में है। विद्रोह का असर भी यहीं सबसे ज्यादा है. मंडी से प्रतिभा के नाम की चर्चा है, वह मौजूदा सांसद हैं. बगावत का असर कांगड़ा में भी दिखने वाला है और शिमला में ऐसे उम्मीदवार को खड़ा करना चुनौती होगी जो मौजूदा सांसद सुरेश कश्यप को चुनौती दे सके। आखिरी चरण ( last phase) का मतदान खत्म होने के साथ ही कांग्रेस को वक्त मिल गया है.

मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू स्थिति पर नजर रखे हुए हैं.संगठन की मुखिया प्रतिभा सिंह को लेकर आलाकमान खुद आश्वस्त नजर नहीं आ रहा है. कांग्रेस बिखरी हुई है, केंद्रीय नेतृत्व उसे पूरी तरह संगठित नहीं कर पा रहा है!  ऐसा नहीं है कि सिर्फ कांग्रेस की नाव में ही छेद है. भाजपा (bjp)  में कई गुट हैं लेकिन मजबूत केंद्रीय नेतृत्व और अनुशासन (discipline) के कारण पार्टी एक कतार में खड़ी है।कांग्रेस में पार्टी के अंदर नाराजगी को दूर करने के लिए सुक्खू ने संगठन के लोगों और विधायकों को एडजस्ट करने में तत्परता दिखाई है.महिलाओं को 1500 रुपये प्रति माह देना, स्कूल प्रबंधन समिति के शिक्षकों और कंप्यूटर शिक्षकों का मानदेय बढ़ाना, बढ़ी हुई बिजली दरों को सरकार की ओर से वहन करना जैसे जितने कल्याणकारी( welfare ) फैसले सरकार ले सकती थी, उसने लिए हैं। बजट के बाद भी. सोलह महीने की उपलब्धियां गिनाते हुए सरकार आपदा का साहस और सफलता से मुकाबला करने और इसमें केंद्र की मदद नहीं मिलने के मुद्दे को भुना रही है!

उन्होंने भाजपा (bjp)  और आरएसएस (rss) पर राज्य सरकार को अस्थिर करने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया। कांग्रेस के पास बेरोजगारी, केंद्रीय स्तर पर संस्थाओं का विघटन जैसे मुद्दे हैं. भाजपा धारा 370, राम मंदिर जैसे राष्ट्रीय मुद्दे उठाएगी और हिमाचल को मिली केंद्रीय परियोजनाओं (central planning) और योजनाओं को भी गिनाएगी।इनमें रेल नेटवर्क का विस्तार, एम्स, ट्रिपल आईटी और पीजीआई सैटेलाइट सेंटर शामिल हैं। लोकसभा चुनाव के साथ-साथ उपचुनाव के नतीजे भी प्रदेश में एक नया इतिहास लिखेंगे।यदि कांग्रेस पक्ष में रही तो सुक्खू सरकार (Sukkhu government) को मजबूती मिलेगी, अन्यथा सरकार पर संकट खड़ा हो जाएगा। बीजेपी न सिर्फ केंद्र में सरकार बनाएगी बल्कि राज्य में भी सरकार बनाएगी.अगर वे पक्ष में नहीं हैं तो केंद्र और राज्य के नेताओं के कामकाज पर सवाल उठायेंगे! 

यह भी पढ़ें ||  Himachal News || हिमाचल प्रदेश में प्रचंड गर्मी के चलते स्कूलों बदलेगी टाइमिंग

सुपर स्टोरी

HDFC Bank Net Banking Update || HDFC Bank के ग्राहकों के लिए नया अपड़ेट, इतने वक्त तक Net Banking से लेकर UPI तक कुछ नहीं चलेगा HDFC Bank Net Banking Update || HDFC Bank के ग्राहकों के लिए नया अपड़ेट, इतने वक्त तक Net Banking से लेकर UPI तक कुछ नहीं चलेगा
HDFC Bank Net Banking Update ||   अगर आप भी HDFC Bank के ग्राहक हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है।...
Dr Ganesh Baraiya || तीन फुट के डॉक्टर साब, जब करने पहुंचे इलाज तो चकरा गया मरीजों का दिमाग
Success Story || दर्जी की बिटिया ने छू लिया 'आसमान', गरीबी से उठकर बनी जज
Bank Off Baroda Good News || बैंक ऑफ बड़ौदा के धारकों के लिए बड़ी खुशखबरी! बैंक ने कर दिया बड़ा काम
Driving Licence New Rules || 1 जून से लागू होंगे नए नियम, हो जाएं सावधान वरना देना होगा 25 हजार का जुर्माना
Credit Card का करते हैं इस्तेमाल तो भूलकर भी न करें ये गलती, क्रेडिट स्कोर हो जाएगा खराब
PHD के छात्र ने बनाया जबरदस्त रिकॉर्ड, अपने नाम किये 1000 से ज्यादा सर्टिफिकेट, यहां दर्ज हुआ नाम
Premanand ji Maharaj || प्रेमानंद महाराज ने बताया, भूलकर ना रखें ये दो चीज बकाया,
ATM Scam : कभी भी गलती से ATM मशीन के पास न करें यह काम, एक गलती से हो जाएंगे कंगाल, भयंकर स्कैम चल रहा
Aadhaar Related Crimes : जेल पहुंचा सकती है आधार से जुड़ी ये गलती, 10 लाख तक जुर्माना