पांगी प्रशासन ने चंबा के लिए वाया साच-पास HRTC बस का किया परीक्षण, SDM ने दिखाई हरी झंडी

पांगी प्रशासन ने चंबा के लिए वाया साच-पास HRTC बस का किया परीक्षण, SDM ने दिखाई हरी झंडी

पांगी: किलाड़ से वाया साच पास चंबा के लिए एचआरटीसी बस सेवा सोमवार को शुरू हो गई है। इससे पांगी घाटी के लोगों ने राहत की सांस ली है। किलाड़ से यह बस सुबह नौ बजे रवाना होगी और सायं छह बजे चंबा पहुंचेगी, जबकि चंबा से सुबह पांच बजे चलेगी और सायं चार बजे […]

पांगी: किलाड़ से वाया साच पास चंबा के लिए एचआरटीसी बस सेवा सोमवार को शुरू हो गई है। इससे पांगी घाटी के लोगों ने राहत की सांस ली है। किलाड़ से यह बस सुबह नौ बजे रवाना होगी और सायं छह बजे चंबा पहुंचेगी, जबकि चंबा से सुबह पांच बजे चलेगी और सायं चार बजे किलाड़ पहुंचेगी। बस सेवा शुरू होने से अब घाटी के लोगों को जिला मुख्यालय पहुंचने व जिला मुख्यालय से वापस घर लौटने के लिए टैक्सियों में अधिक किराया देने से छुटकारा मिलेगा। वे 378 रुपये बस का किराया देकर किलाड़ से जिला मुख्यालय पहुंचेंगे।

इससे पहले लोगों को चंबा पहुंचने के लिए वाया कुल्लू करीब 1533 रुपये किराया देना पड़ता था। अक्टूबर 2022 को वाया साच पास बस बर्फबारी होने से बंद हो गई थी। जुलाई माह में लोक निर्माण विभाग ने किलाड़-चंबा वाया साच पास मार्ग को यातायात के लिए बहाल कर दिया था लेकिन बस सेवा शुरू नहीं हो पा रही थी। पांगी को जिला मुख्यालय से जोड़ने वाला सबसे नजदीक मार्ग होने के कारण लोग काफी समय से वाया साच पास बस चलाने की मांग कर रहे थे। उनका कहना है कि जब भी इस मार्ग से बस सेवा शुरू होती है तो उन्हें जिला मुख्यालय पहुंचने के लिए अधिक किराया खर्च करने से निजात मिलती है।

उधर उपमंडलाधिकारी नागरिक पांगी रमन घरसंगी ने जानकारी देते हुए बताया की किलाड़-चम्बा वाया साच पास के माध्यम से हिमाचल पथ परिवहन बस का परीक्षण सोमवार को शुरू किया गया। बस के साथ तहसीलदार पांगी और लोक निर्माण विभाग पांगी के तकनीकी कर्मचारी भी रहेंगे। परीक्षण की सफलता के बाद, बस हर सुबह 9:30 बजे किलाड़ से चलेगी। इस सेवा को जुलाई में होने वाली बारिशों के कारण पहले  शुरू नहीं किया जा सका था , क्योंकि साच पास सड़क मार्ग कई स्थानों पर क्षतिग्रस्त हो गया था। इस बस सेवा से पांगी के सभी निवासियों को लाभ होगा।

यह भी पढ़ें ||  Himachal News || खीरगंगा ट्रैक पर निकली महिला की हादसे में मौत, स्थानीय लोगों ने की मदद

Focus keyword

Tags: