बड़ी उपलब्धि: चीन की यूनिवर्सिटी में पढ़ाएगा हिमाचल के किसान का बेटा, बना असिस्टेंट प्रोफेसर

बड़ी उपलब्धि: चीन की यूनिवर्सिटी में पढ़ाएगा हिमाचल के किसान का बेटा, बना असिस्टेंट प्रोफेसर

मंडी: Himachal Pradesh हर दिन शिक्षा में सुधार कर रहा है। यहां पढ़े लिखे युवा आज देश भर में अपनी प्रतिभा दिखा रहे हैं। प्रदेश के युवा भी हर क्षेत्र में महत्वपूर्ण पदों पर आसीन होकर देश को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। हिमाचल की कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद यहां के युवा देश विश्व भर में हिमाचल का नाम रौशन कर रहे हैं। ऐसे ही एक युवा ने अपनी प्रतिभा के कारण अब विदेश में नौकरी पाई है।

Chinese University  में हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के 30 वर्षीय युवा का चयन हुआ है। अब हिमाचल प्रदेश का युवा यानी एक Chinese University में विद्यार्थियों को शिक्षित करेगा। यह रोपड़ी गांव युवक मंडी जिले के दुर्गम सराज क्षेत्र की ग्राम पंचायत शिल्हीबागी में है। 30 वर्षीय डॉ. संजय कुमार युवक है। संजय कुमार चीन की यूनिवर्सिटी में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में काम करेगा।

एक छोटे से गांव के रहने वाले संजय के इस चयन से ना सिर्फ उनके माता पिता बल्कि पूरे गांव और क्षेत्र में खुशी का माहौल है। डॉ संजय अब चीन के बच्चों को शिक्षित करेंगे। डॉ संजय कुमार का चयन चीन के शियान स्थित जियोतोंग यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मेटिरियल साइंस एवं इंजीनियरिंग में हुआ है। हालांकि संजय का चयन जनवरी माह में हो गया था, लेकिन दस्तावेजों की औपचारिकताओं को पूरा करने में समय लग गया। अब डॉ संजय ने चीन की उड़ान भर ली है।

यह भी पढ़ें: Khan Sir Patna: रक्षाबंधन पर Khan Sir की कलाई में 7000 Rakhi, बना दिया Record

संजय ने बताया कि बचपन से ही उनका सपना था कि वह विदेश जाकर वहां के बच्चों को पढ़ाऊँगा। जो उन्होंने ऑनलाइन आवेदन किया था। डॉ. संजय ने बताया कि उनका चयन चीन की जियोतोंग यूनिवर्सिटी में कई ऑनलाइन इंटरव्यू के बाद हुआ था। उनका कहना था कि वे चार वर्ष के लिए अनुबंध के आधार पर नियुक्त हुए हैं। इस दौरान प्रति वर्ष २५ लाख रुपये का पैकेज मिलेगा।

यह भी पढ़ें ||  IMD Weather Update : बारिश की चाह रखने वाले हो जाएं सावधान! दो दिन बाद इन 5 राज्‍यों में तांडव मचाएगा मानसून, IMD का अपडेट

डॉ. संजय कुमार मध्यमवर्गीय परिवार से आते हैं। उनके पिता भीमसिंह गांव में रहकर खेती करते हैं। वहीं उनकी माता डोमला देवी घरेलू काम करती हैं। थुनाग स्कूल से डॉ. संजय ने बारहवीं तक पढ़ाई की है। बाद में उन्होंने बासा के डिग्री कॉलेज से डिग्री प्राप्त की। Dr. संजय ने HPU से मास्टर डिग्री हासिल करने के बाद JP University से फिजिक्स में पीएचडी किया। इस दौरान, उन्होंने बतौर शिक्षक भी कई निजी संस्थानों में काम किया। Dr. संजय कुमार ने अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार और शिक्षकों को दिया है। उन्होंने बताया कि उनके परिवार ने हमेशा उनका साथ दिया। हर फैसले में वह उनके साथ रहे। जिसके चलते ही उन्होंने जमकर मेहनत की और अपने सपने का साकार किया।

यह भी पढ़ें ||  Himachal Cabinet Meeting Decision : हिमाचल के अमीरों को सुक्खू की केबिनेट बैठक ने दिया बड़ा झटका, फ्री नहीं मिलेगी 125 यूनिट बिजली

सुपर स्टोरी

Marksheet of IAS Srishti Deshmukh : IAS सृष्टि देशमुख की मार्कशीट देखें, 10वीं-12वीं और UPSC में कितने थे नंबर Marksheet of IAS Srishti Deshmukh : IAS सृष्टि देशमुख की मार्कशीट देखें, 10वीं-12वीं और UPSC में कितने थे नंबर
Marksheet of IAS Srishti Deshmukh : Srishti Deshmukh ने 2018 की यूपीएससी परीक्षा में 5वीं रैंक हासिल की थी। बारिश...
Railway Knowledge: यह है देश का अनोखा रेलवे स्टेशन, यहां 6 महीने से नहीं कटा टिकट, अजीब है खिड़की बंद होने की वजह
Budget News || मोदी 3.0 सरकार के बजट को लेकर सर्राफा व्यापारियों को काफी उम्मीदें, टैक्स में राहत और पेंशन की मांग
Meri Beti Mera Abhiman: दिल जीत ले गया 'मेरी बेटी मेरा अभिमान' का फर्स्ट लुक, हाथ में फावड़ा और बेटियों संग नजर आईं अंजना सिंह
कुमाऊं में आसमान से आफत की दस्तक: अगले चार दिन भारी बारिश का रेड अलर्ट!
आधार कार्ड की प्रक्रिया हुई लंबी: नए नियमों से अब 6 महीने करना होगा इंतजार
नए आपराधिक कानून में दर्ज प्राथमिकी के आरोपी को मिली जमानत: क्या था मामला ?
हाथरस हादसे में नया खुलासा: सेवादारों ने रोक दी मदद, भड़क उठे ग्रामीण युवा; बचाव में लगी देर से गई कई जानें
केंद्रीय कर्मचारियों की होगी बल्ले-बल्ले,महंगाई भत्ते की किश्त होने वाली है जारी 
मतदान ड्यूटी में अनुपस्थित 425 शिक्षकों को राहत: बीएसए ने वेतन बहाली के दिए आदेश, जल्द खातों में आएगा रुका हुआ पैसा