Himachal News: हिमाचल की बेटी रितु नेगी की कप्तानी में भारतीय महिला कबड्डी टीम ने जीता गोल्ड मेडल

Himachal News: हिमाचल की बेटी रितु नेगी की कप्तानी में भारतीय महिला कबड्डी टीम  ने जीता गोल्ड मेडल

Himachal News: नई दिल्ली। एशियन गेम्स 2023 में भारतीय खिलाड़ी रिकॉर्ड (indian player record) तोड़ते जा रहे हैं। भारत ने 100 का जादुई पार कर लिया है। हालांकि मेडल पाने का सिलसिला अभी थमा नहीं है। चीन के हांगझोऊ (Hangzhou) में चल रही एशियन गेम्स 2023 में भारत का शानदार प्रदर्शन अभी जारी है। हिमाचल […]

Himachal News: नई दिल्ली। एशियन गेम्स 2023 में भारतीय खिलाड़ी रिकॉर्ड (indian player record) तोड़ते जा रहे हैं। भारत ने 100 का जादुई पार कर लिया है। हालांकि मेडल पाने का सिलसिला अभी थमा नहीं है। चीन के हांगझोऊ (Hangzhou) में चल रही एशियन गेम्स 2023 में भारत का शानदार प्रदर्शन अभी जारी है। हिमाचल की बेटी रितु नेगी (Ritu Negi) की कप्तानी में भारतीय महिला कबड्डी टीम (Indian women’s kabaddi team)  ने गोल्ड मेडल पर कब्जा जमा लिया है। इसी के साथ भारत ने अपने 100 मेडल जीतने के वादे को भी निभाया। इस खबर से देशभर के साथ हिमाचल में खुशी की लहर है। भारतीय महिला कबड्डी टीम (Indian women’s kabaddi team)  ने शनिवार को फाइनल मुकाबले में चीनी ताइपे को केवल एक अंक के अंतर से मात देकर गोल्‍ड मेडल अपने नाम किया। सांस थाम देने वाले फाइनल में भारत ने चीनी ताइपे को 26-25 के स्‍कोर से हराया। भारतीय महिला कबड्डी टीम (Indian women’s kabaddi team) के सहारे देश ने एशियन गेम्‍स 2023 में अपना 25वां गोल्‍ड मेडल जीता।

रितु नेगी के गांव शिलाई जिला सिरमौर (Shillai District Sirmaur) में जबरदस्त खुशी का माहौल है। रितु के पिता भवान सिंह नेगी ने बताया कि सांसें रोक देने वाले फाइनल मुकाबले को सुबह सात बजे से ही गांव के सभी लोगों ने टीवी पर लाइव देखा। जीत के बाद मिठाई बांटकर सेलिब्रेशन हो रही है। भवान सिंह नेगी कहा कि चीन ने फाइनल में भारत को कड़ी टक्कर दी। उन्होंने बताया कि सांस रोक देने वाले इस मैच के दौरान दो-तीन बार पानी पीना पड़ा। रितु के पिता रिटायर टीचर और माता हाउस वाइफ हैं। भारत को कबड्डी में स्वर्ण पदक दिलाने में हिमाचल प्रदेश की एक नहीं बल्कि पांच बेटियों का योगदान है। रितु नेगी के अलावा चार अन्य बेटियां भी भारतीय कबड्डी टीम (indian kabaddi team)  में शामिल हैं इसलिए यह पूरे प्रदेश के लिए भी गौरव का क्षण है। इनमें तीन बेटियां प्लेइंग-7 का हिस्सा रही। अकेले शिलाई क्षेत्र की तीन बेटियां भारतीय कबड्डी टीम में हैं।

यह भी पढ़ें ||  Himachal Rajya Sabha Election || हिमाचल में सुक्खू की कांग्रेस सरकार पर घोर संकट, 6 विधायको से कटा पार्टी का संपर्क

रितु नेगी ने बतौर कप्तान टीम का नेतृत्व किया, जबकि शिलाई के मिला गांव की पुष्पा राणा (ऑलराउंडर) और सोलन की निधि शर्मा (रेडर) ने भी फाइनल मुकाबले में शानदार प्रदर्शन किया। शिलाई की सुषमा शर्मा और बिलासपुर की ज्योति ठाकुर भी भारतीय कबड्डी टीम (indian kabaddi team) का हिस्सा रही। बता दें कि कबड्डी टीम की कप्तान रितु नेगी अभी भारतीय रेलवे में नौकरी कर रही है। इससे पहले रितु नेगी 2011 में जूनियर महिला एशियन गेम्स में बतौर कप्तान भारत को गोल्ड मेडल दिला चुकी हैं। साल 2018 में जकार्ता में खेले गए एशियन गेम्स में बतौर रेडर खेलते हुए रजत पदक दिलाया। नेपाल में 2019 में खेली गई एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने वाली टीम में प्लेइंग-7 में रही। रितु नेगी ने कबड्‌डी का प्रशिक्षण बिलासपुर स्थित होस्टल से लिया। साल 2014 से वह प्रदेश से बाहर है और रेलवे की ओर से खेलती आ रही है।

Himachal News: हिमाचल की बेटी रितु नेगी की कप्तानी में भारतीय महिला कबड्डी ने जीता गोल्ड मेडल
Himachal News: हिमाचल की बेटी रितु नेगी की कप्तानी में भारतीय महिला कबड्डी ने जीता गोल्ड मेडल

Focus keyword

ट्रेंडिंग

Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर अब अरबपति तक पीने आते हैं चाय Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर अब अरबपति तक पीने आते हैं चाय
Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर...
IPS Officer Success Story || IPS पति-पत्नी का अनोखा अंदाज, काम करने का अलग अंदाज, लोग करते हैं तारीफ
Success Story || 42 साल की मां ने अपने 24 साल के बेटे के साथ पास की PCS की परीक्षा, दोनों एक साथ बने अफसर
PPI Card For Public Transport || RBI ने दी बैंको को दी ये मंजूरी, रेल, मेट्रो, बस, पार्किंग पेमेंट होगा आसान
Success Story || 1.5 लाख महीने की सरकारी नौकरी छोड़ बने IAS, जॉब के साथ की तैयारी, UPSC में पाई 8वीं रैंक
kalyanaraman Success Story || कभी कर्ज लेकर शुरू की थी सोने की दुकान, आज खड़ी कर दी 17,000 करोड़ की कल्याण ज्वेलर्स कंपनी