क्या आप जानते है, अंगुली से पुरानी स्याही मिटी नहीं, तो कैसे होगा नया मतदान

क्या आप जानते है, अंगुली से पुरानी स्याही मिटी नहीं, तो कैसे होगा नया मतदान

​शिमला:  चुनाव आयोग ने लोकतंत्र के महापर्व में फर्जी मतदान या फिर दो-दो बार मतदान करने जैसी घटनाओं को रोका और मतदान की महत्वपूर्णता से काम करता है। इसलिए प्रत्येक मतदाता की बाएं हाथ की तर्जनी अंगुली पर स्याही का निशान वोटिंग के दौरान लगाया जाता है। दशकों से, यह स्याही का निशान भारतवासियों को बताता आया है कि वे अपने मतदान को सुरक्षित रख सकते हैं और फर्जी मतदान नहीं कर सकते। चुनाव के दौरान मतदान केंद्र पर मौजूद चुनाव कर्मी इस नीली स्याही का निशान मतदाता की अंगुली पर लगाकर सुनिश्चित करते हैं कि उस नागरिक ने मतदान किया है और उसका मतदान करने का अधिकार सुरक्षित है।

इस स्याही की एक विशेषता यह है कि यह अंगुली के साथ चंद सेकंडों में ऐसे चिपक जाती है कि इसे निकालना मुश्किल हो जाता है। हमीरपुर जिला सहित प्रदेश के कुछ अन्य जिलों में हाल ही में लोकसभा के आम चुनाव के साथ-साथ विधानसभा के उपचुनाव भी हुए हैं, जिससे यह जिद्दी स्याही चर्चा में आ गई है। चुनावों के दौरान यह मतदाता की अंगुली पर ऐसा लगता है कि 10 जुलाई को कांगड़ा, देहरा और सोलन के नालागढ़ में होने वाले उपचुनावों तक यह इतनी आसानी से नहीं होगा। संबंधित विधानसभा क्षेत्र के निर्वाचन अधिकारी भी ऐसी स्थिति में संशय में है।

यह सिर्फ बाएं हाथ की तर्जनी अंगुली पर स्याही लगाने की अनुमति है। ऐसे में, यदि निशान नहीं मिटा है, तो इसे लेकर देखो कि किस अंगुली में लगाना है और स्थिति क्या है? वास्तव में, चुनाव के दौरान ड्यूटी दे रहे कुछ विशिष्ट अधिकारियों की दाहिनी हाथ की तर्जनी और मध्य वाली अंगुली पर भी स्याही लगानी चाहिए। ऐसे में अब सबके सामने स्पष्ट प्रश्न है कि आयोग सुरक्षित चुनाव करवाने के लिए क्या निर्णय लेगा अगर 10 जुलाई तक स्याही का निशान न मिटा। यह स्याही पहली जून को होने वाले लोकसभा चुनावों और कुछ जिलों में विधानसभा उपचुनावों में वोट डालने वाले मतदाताओं की अंगुली पर पहले से ही लगा हुई है। तीन जिलों के तीन विधानसभा क्षेत्रों में चार महीने के भीतर दोबारा उपचुनाव होने जा रहे हैं। जानकारों का कहना है कि मतदान के समय लगाई जाने वाली स्याही हमारी त्वचा और नाखून पर लगभग एक महीने से पांच सौ दिन तक रहती है। यह देखने वाली बात होगी कि चुनाव आयोग मतदाताओं के लिए क्या करेगा। 

इलेक्शन कमीशन अभी तक कोई आदेश नहीं देता

हमीरपुर के डीसी अमरजीत सिंह ने कहा कि इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया से अभी तक कोई सूचना नहीं मिली है। वैसे तो हमें लगता है कि तब तक यह स्याही मतदाता की अंगुली से मिट जाएगा. फिर भी, यदि ऐसा नहीं होता, तो चुनाव आयोग से मिलने वाले निर्देशों के अनुसार मतदान किया जाएगा।

यह भी पढ़ें ||  गजब की बीमारी, किसी की बात ही नहीं समझ पाती थी महिला, दिनभर रहती थी नशे में, डॉक्टर को दिखाया, तो 'सच' जानकर उड़े होश!

Focus keyword

Tags:

सुपर स्टोरी

गजब! क्रिकेट इतिहास का सबसे रोमांचक मैच, इस टीम ने सिर्फ 12 गेंद में ठोंक डाले 61 रन गजब! क्रिकेट इतिहास का सबसे रोमांचक मैच, इस टीम ने सिर्फ 12 गेंद में ठोंक डाले 61 रन
Austria Vs Romania Historic chase win |  Cricket सिर्फ आंकड़े नहीं, मनोरंजन भी देता है। इस खेल में आखिरी गेंद...
Becoming Rich Tips | आज ही अपनाएं ये 3 आदतें, बढ़ता चला जाएगा पैसा, पूरा हो सकता है अमीर बनने का सपना
IAS Success Story | इन IAS को रास नहीं आई इंजीनियरिंग, IIT से की पढ़ाई फिर क्लियर किया UPSC एग्जाम
गजब की बीमारी, किसी की बात ही नहीं समझ पाती थी महिला, दिनभर रहती थी नशे में, डॉक्टर को दिखाया, तो 'सच' जानकर उड़े होश!
Credit Card से गलती से भी ना करें ये 3 काम, वरना चैन से जीना हो जाएगा मुश्किल!
Mutual Fund | म्यूचुअल फंड के दीवाने हुए भारतीय... महीनेभर में डाले ₹34000 करोड़
Jaya kishori : श्रीकृष्ण के अलावा, ये भी हैं जया किशोरी के प्रिय भगवान!
Online Fraud : App Download करने से पहले यहां समझ ले सही तरीका, वरना वरना खाली हो जाएगा अकाउंट
Worst Combination With Curd: गर्मी के मौसम में दही के साथ भूलकर भी न खाएं ये चीजें, बिगड़ सकती है सेहत
Marksheet of IAS Srishti Deshmukh : IAS सृष्टि देशमुख की मार्कशीट देखें, 10वीं-12वीं और UPSC में कितने थे नंबर

यह भी पढ़ें