5 cash transactions || 5 कैश ट्रांजेक्शन जो बन सकते हैं गले की हड्डी, तुरंत आएगा आयकर विभाग से नोटिस, भुलावे में ना रहें

इस बारे में आप समय रहते जान लें कहीं आप भी फस ना जाएं मुसीबत में
5 cash transactions || 5 कैश ट्रांजेक्शन जो बन सकते हैं गले की हड्डी, तुरंत आएगा आयकर विभाग से नोटिस, भुलावे में ना रहें
 हर व्यक्ति बैंक में लेनदेन करता है, चाहे वह सेविंग अकाउंट हो करंट अकाउंट हो या चाहे कोई यानी अकाउंट। अगर आप अपने अकाउंट से कोई लेनदेन करते हैं चाहे छोटा है या बड़ा तो इसके

हाइलाइट्स

  • कैश लेनदेन पर विभाग ने रखी है लिमिट.
  • एफडी व सेविंग्स अकाउंट के लिए 10 लाख है सीमा.
  • क्रेडिट कार्ड बिल भुगतान के लिए लिमिट 1 लाख रुपये है.

5 cash transactions ||  हर व्यक्ति बैंक में लेनदेन करता है (Every person does transactions ) चाहे वह सेविंग अकाउंट (saving account)हो करंट अकाउंट (current account) हो या चाहे कोई यानी अकाउंट। अगर आप अपने अकाउंट से कोई लेनदेन करते हैं चाहे छोटा है या बड़ा तो इसके बारे में आपको पुख्ता जानकारी (proper information) होनी चाहिए। अदरवाइज आपको आयकर विभाग का नोटिस आ जाएगा जो आपके लिए गले के फांस (pain in neck ) बन जाएगा। इसलिए आपको सोच समझकर और कितना ट्रांजैक्शन (transection ) करना है

इसके बारे में जानकारी हासिल कर लेनी चाहिए। कई लोगों को लगता है कि अगर वह कैश में ट्रांजेक्शन करेंगे तो इस बारे में आयकर विभाग को पता नहीं चलेगा (Many people think that if they do the transaction in cash then the Income Tax Department will not come to know about it.) लेकिन ऐसा हर बार नहीं होगा। कुछ ऐसी ट्रांजेक्शन हैं जहां आप बहुत ज्यादा कैश इस्तेमाल ( use of cash) करते हैं तो आपको आयकर विभाग का नोटिस आ सकता है। आज हम आपको ऐसी ही 5 तरह की ट्र्रांजेक्शन के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका ज्ञान आपको रखना चाहिए (5 such types of transactions whose knowledge you should have.)

यह भी पढ़ें ||  Bank Off India Update || बैंक ऑफ इंडिया में FD धारकों के लिए निकली लॉटरी, अब जबदस्त मिलेगा फायदा

बचत खाते में जमा

अगर एक वित्त वर्ष में किसी सेविंग्स अकाउंट in saving account) में आपका कैश डिपॉजिट (cash  deposit) 10 लाख से ऊपर चला जाता है तो खाताधारक (account holders) के लिए मुसीबत हो सकती है। सरकार की तरफ से 10 लाख तक की लिमिट सेट की गई है। आप 1 अप्रैल से 31 मार्च तक सेविंग्स अकाउंट (saving account) में 10 लाख रुपये से ज्यादा कैश नहीं डाल सकते। अगर रकम इससे ऊपर चली जाती है तो बैंक सीबीडीटी (CBDT) को इसके बारे में सूचना दे देगा।

यह भी पढ़ें ||  Government News || कच्चे कर्मचारियों के लिए खुशखबरी! प्रदेश सरकार के इस फैसले पर आई बड़ी अपडेट

कैश से एफडी

आप बैंक में एफडी करवाते होंगे और एफडी को एक सुरक्षित निवेश भी माना जाता है। यहां पर भी सेविंग्स अकाउंट वाला ही नियम लागू होगा। अगर कोई एक वित्त वर्ष के अंदर 10 लाख रुपये से ज्यादा का निवेश कैश में करता है ( someone invests more than Rs 10 lakh in cash within a financial year) तो उसे इनकम टैक्स विभाग का नोटिस (notice of income tax department) मिल सकता है। अगर आप अलग-अलग अकाउंट में छोटा-छोटा अमाउंट भी जमा करते हैं (if you deposit small amounts in different accounts) लेकिन ये कुल मिलकर 10 लाख रुपये से अधिक हो जाता है तो भी आप इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नजर में आ जाएंगे।

यह भी पढ़ें ||  SBI Welfare FD Scheme || SBI की धांसू स्कीम... मिल रहा 7.50% का ब्याज, निवेश से पहले जानें स्कीम से जुड़ी खास बातें

स्टॉक-म्यूचुअल फंड की खरीद

अगर आप स्टॉक, म्यूचुअल फंड या बॉन्ड में निवेश कैश के जरिए करते हैं (mutual funds or bonds through cash) तो इनमे भी आप 10 लाख रुपये से अधिक नहीं कर सकते। इससे आयकर विभाग पक्का आयकर विभाग (Income Tax Department) को पता लग जाएगा। लेकिन ऐसा जरूरी नहीं कि आपको पहली बार में ही नोटिस (notice) आ जाए। हालांकि, अगर विभाग ने जांच की और उसे कुछ गड़बड़ नजर आई तो जरूर आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

कैश में क्रेडिट का बिल भुगतान

हालांकि इस संबंध में कोई तय नियम निर्धारित नहीं है (there is no fixed rule in this regard)। आप क्रेडिट कार्ड बिल ( (credit card bill)का कितना भुगतान कैश में कर सकते हैं फिर भी अगर आप महीने में 1 लाख रुपये से ज्यादा का बिल पेमेंट कैश से करते हैं तो आप विभाग की नजर में आ जाएंगे।

प्रॉपर्टी से संबंधित कैश भुगतान

अगर आप कोई प्रॉपर्टी खरीद रहे हैं (buying a property) और आपको लगता है कि आप सारी पेमेंट कैश (total cash payment ) में करके आयकर विभाग की नजर से बच जाएंगे तो आप बिल्कुल गलत है (you are wrong) । अगर आप शहर में 50 लाख रुपये और गांव में 20 लाख रुपये या उससे अधिक मूल्य की प्रॉपर्टी (property) खरीदते हैं तो आपको आयकर विभाग को बताना होता है कि इतने फंड का इस्तेमाल (use of fund) कहां हो रहा है। कई राज्य इस मामले में अपने अलग नियम भी बनाते हैं। जिस हिसाब से वहां की प्रापर्टी खरीदने  (buying a property)का पैमाना तय होता है।

ट्रेंडिंग

UPSC Success story || लगातार 4 बार क्लियर किया था UPSC एग्जाम,  अब प्रदेश में बना कमिश्नर UPSC Success story || लगातार 4 बार क्लियर किया था UPSC एग्जाम,  अब प्रदेश में बना कमिश्नर
UPSC Success story || भोपाल के एक व्यापारी रमेश शिवानी के बेटे जय शिवानी ने प्रशासनिक सेवा के लिए 2019...
Sandalwood cultivation || ये है दुनिया का सबसे महंगा पौधा! 1 एकड़ की खेती में 30 करोड़ की कमाई, जानें कैसे मिलेगा मुनाफा
Mental Health || मेंटल हेल्थ से दिमाग की सेहत का कड़वा सच, ऐसे दोनों का ख्याल नहीं रखा तो....
Trending Quiz || वो कौन-सी चीज है, जो पानी में डालने पर गर्म हो जाती है?
Salman Khan House Firing News || सलमान खान के घर के बाहर ताबड़तोड़ फायरिंग, बाइक से आए थे हमलावर, एक्टर को किससे खतरा?
NR Narayana Murthy Success Story || कभी पत्नी से लिए थे पैसे उधार, आज खड़ी कर दी अरबों की कंपनी