Arvind Kejriwal Jailed || कोई मुख्यमंत्री जब इस्तीफा देता है तो कौन चलाता है राज्य, बड़ी घटना होने पर किसकी होती है जिम्‍मेदारी?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मनी लॉन्ड्रिंग मामले में न्यायिक हिरासत के तहत तिहाड़ जेल में बंद हैं
Arvind Kejriwal Jailed || कोई मुख्यमंत्री जब इस्तीफा देता है तो कौन चलाता है राज्य, बड़ी घटना होने पर किसकी होती है जिम्‍मेदारी?

Arvind Kejriwal Jailed || दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मनी लॉन्ड्रिंग (money laundering) मामले में न्यायिक हिरासत के तहत तिहाड़ जेल में बंद हैं। ऐसे में कई नियम हैं जिनके तहत अरविंद केजरीवाल को सीएम पद से इस्तीफा (resignation ) देना पड़ सकता है! अब सवाल ये है कि अगर अरविंद केजरीवाल सीएम पद से इस्तीफा दे देंगे तो सरकार कौन चलाएगा. हालाँकि, आम आदमी पार्टी (आप) ने अभी तक अपने मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार (candidate ) का नाम घोषित नहीं किया है। ऐसे में अगर वह इस्तीफा दे देते हैं तो सरकार चलाने का अधिकार किसे है.वह जेल में रहते हुए पद पर बने रहने वाले पहले सीएम हैं।जो सभी विभागों का कार्य कर सके। आपने कई राज्यों में देखा होगा जब कोई सीएम अपना इस्तीफा देता है तो राज्यपाल (governor) उसे स्वीकार कर लेते हैं. मुख्यमंत्री के इस्तीफे के बाद, वह नए मुख्यमंत्री ( new chief minister) के शपथ लेने तक राज्य के कार्यवाहक के रूप में पद पर बने रहते हैं।अधिक जानने के लिए नीचे हमारा लेख पढ़ें।

जानकारी के मुताबिक जब मुख्यमंत्री अपना इस्तीफा (resignation) राज्य के राज्यपाल को देते हैं.सौंपे जाने पर राज्यपाल उन्हें नए मुख्यमंत्री के कार्यभार संभालने तक राज्य की कमान संभालने का निर्देश देते हैं। सौंपे जाने पर राज्यपाल उन्हें नए मुख्यमंत्री के कार्यभार संभालने तक राज्य की कमान संभालने का निर्देश देते हैं। अब सवाल उठता है कि अगर सीएम इस्तीफा (chief minister resignation) भी दे देते हैं और विधायक दल की बैठक में कोई नया नाम सामने आता है तो ऐसी स्थिति में सरकार का अधिकार किसके पास है.आपने कई राज्यों में देखा होगा जब कोई सीएम अपना इस्तीफा देता है तो राज्यपाल उसे स्वीकार कर लेते हैं. मुख्यमंत्री के इस्तीफे के बाद, वह नए मुख्यमंत्री के शपथ लेने तक राज्य के कार्यवाहक के रूप में पद पर बने रहते हैं।जानकारी के मुताबिक जब मुख्यमंत्री अपना इस्तीफा राज्य के राज्यपाल को देते हैं.ऐसे में कई राज्यों में राष्ट्रपति शासन (president rule) लगा हुआ है.राष्ट्रपति शासन के दौरान राज्य का शासन राज्यपाल द्वारा होता है।

ऐसे में केंद्र शासित प्रदेशों में उपराज्यपाल (deputy governor) ही सरकार चलाते हैं. वह राज्य के सभी मामलों के लिए जिम्मेदार है।हालाँकि, कार्यवाहक सीएम की शक्तियाँ भी सीमित हैं।इस दौरान आप कोई भी नया काम शुरू नहीं कर सकते।कानून व्यवस्था बनाये रखना उनका कर्तव्य है.इसलिए वे ऐसे मामलों पर निर्देश दे सकते हैं. प्रधानमंत्री (prime minister) के इस्तीफा देने या अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद भी राष्ट्रपति उन्हें कार्यवाहक प्रधानमंत्री के रूप में कार्य करने का निर्देश देते हैं।इतना ही नहीं, नए प्रधानमंत्री के शपथ लेने के बाद ही वह अपनी जिम्मेदारी (responsibility )से मुक्त होते हैं।

सुपर स्टोरी

Bank Off Baroda Good News || बैंक ऑफ बड़ौदा के धारकों के लिए बड़ी खुशखबरी! बैंक ने कर दिया बड़ा काम Bank Off Baroda Good News || बैंक ऑफ बड़ौदा के धारकों के लिए बड़ी खुशखबरी! बैंक ने कर दिया बड़ा काम
Bank Off Baroda Good News ||  सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ बड़ौदा (BCB) ने चौथी तिमाही (Q4FY24) के नतीजों को...
Driving Licence New Rules || 1 जून से लागू होंगे नए नियम, हो जाएं सावधान वरना देना होगा 25 हजार का जुर्माना
Credit Card का करते हैं इस्तेमाल तो भूलकर भी न करें ये गलती, क्रेडिट स्कोर हो जाएगा खराब
PHD के छात्र ने बनाया जबरदस्त रिकॉर्ड, अपने नाम किये 1000 से ज्यादा सर्टिफिकेट, यहां दर्ज हुआ नाम
Premanand ji Maharaj || प्रेमानंद महाराज ने बताया, भूलकर ना रखें ये दो चीज बकाया,
ATM Scam : कभी भी गलती से ATM मशीन के पास न करें यह काम, एक गलती से हो जाएंगे कंगाल, भयंकर स्कैम चल रहा
Aadhaar Related Crimes : जेल पहुंचा सकती है आधार से जुड़ी ये गलती, 10 लाख तक जुर्माना
Aadhaar Card After Death || मौत के बाद आधार कार्ड का क्‍या होगा? जानिए कैसे करें सरेंडर या बंद
Google Pay || 4 जून के बाद काम नहीं करेगा Google Pay, ऐप इस्तेमाल करने वाले जान लें जरूरी बात
बम की धमकी देने पर क्या मिलती है सजा? कभी गलती से भी ना दें किसी के साथ ये मजाक