Lok Sabha Elections 2024 || भारत में फीडबैक का है सिस्टम, यही लोकतंत्र के आगे बढ़ने की वजह : पीएम मोदी

पीएम मोदी ने खास इंटरव्यू में कहा - हमारे पास अपने वादों को पूरा करने का शानदार ट्रैक रिकॉर्ड है. यह लोगों के लिए बहुत बड़ी बात है, क्योंकि वे ऐसे वादे सुनने के आदी थे जो कभी पूरे नहीं होते थे.
Lok Sabha Elections 2024 || भारत में फीडबैक का है सिस्टम, यही लोकतंत्र के आगे बढ़ने की वजह : पीएम मोदी
Lok Sabha Elections 2024 || Image credits ।। सोशल मीडिया

Lok Sabha Elections 2024 ||  अपने दूसरे कार्यकाल (second tenure) के अंत तक, सबसे लोकप्रिय सरकारें भी समर्थन खोने लगती हैं। हाल के वर्षों में दुनिया भर में सरकारों के प्रति असंतोष बढ़ रहा है। भारत (india) एक अपवाद के रूप में खड़ा है, जहां हमारी लोकप्रिय सरकार (popular government) के लिए समर्थन बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आज न्यूजवीक को एक विशेष साक्षात्कार दिया। पीएम मोदी से उनके नेतृत्व में भारत की आर्थिक प्रगति, बुनियादी ढांचे के विकास, पर्यावरण के मुद्दों (environmental matters) , चीन के साथ भारत के रिश्ते (relationship with china) और मुसलमानों को साथ नहीं लेने के आरोपों के अलावा कथित तौर पर प्रेस की स्वतंत्रता में कटौती के बारे में लिखित सवाल पूछे गए। उन्होंने पूछे गए सवालों का जवाब दियाl

पीएम मोदी ने कहा, "हमारे पास अपने वादों को पूरा करने का एक शानदार ट्रैक रिकॉर्ड (track record) है।" लोगों के लिए यह बहुत बड़ी बात है, क्योंकि वे ऐसे वादे सुनने के आदी हो चुके हैं जो कभी पूरे नहीं होते। हमारी सरकार ने 'सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास' के मूलमंत्र के साथ काम किया है। उन्होंने कहा, ' 'लोगों को भरोसा (believe) है कि अगर किसी और को हमारे कार्यक्रमों का लाभ मिला है, तो उन तक भी पहुंचेगा।'' लोगों ने देखा है कि भारत 11वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था से पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है। अब देश की आकांक्षा क्या भारत जल्द ही दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा l

"हम एक लोकतंत्र हैं, सिर्फ इसलिए नहीं कि हमारा संविधान (constitution) ऐसा कहता है, बल्कि इसलिए भी कि यह हमारे जीन में है। भारत एक लोकतंत्र है.तमिलनाडु के उत्तरमेरुर में आप भारत के लोकतांत्रिक मूल्यों के बारे में 1100 से 1200 साल पुराने शिलालेख देख सकते हैं। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र (democracy) में 2019 के आम चुनाव में 600 मिलियन से अधिक लोगों ने मतदान किया।कुछ महीनों में, 970 मिलियन से अधिक पात्र मतदाता अपने मतदान के अधिकार का प्रयोग करेंगे। पूरे भारत में 10 लाख से ज्यादा मतदान केंद्र बनाए जाएंगेl मतदाताओं की लगातार बढ़ती भागीदारी भारतीय लोकतंत्र में लोगों के विश्वास का बहुत बड़ा प्रमाण है।

"भारत जैसा लोकतंत्र केवल इसलिए आगे बढ़ने और काम करने में सक्षम है क्योंकि वहां फीडबैक का एक जीवंत तंत्र है। मीडिया इस संबंध में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हमारे पास लगभग 1.5 लाख पंजीकृत मीडिया प्रकाशन ( media publisher)mऔर सैकड़ों समाचार चैनल हैं। इसमें कुछ लोग हैं भारत और पश्चिम ने भारत के लोगों के साथ अपनी विचार प्रक्रियाओं, भावनाओं और आकांक्षाओं को खो दिया है।ये लोग वैकल्पिक वास्तविकताओं के अपने प्रतिध्वनि कक्षों में भी रहते हैं। "पिछले दशक में, भारत में बुनियादी ढांचे में बदलाव की गति तेज हो गई है। चाहे हवाई अड्डे हों, रेलवे स्टेशन हों या पुल हों, हमारा बुनियादी ढांचा (basic structure) नवीकरणीय ऊर्जा का लाभ उठा रहा है।

यह भी पढ़ें ||  Himachal Lok Sabha Chunav || कंगना वाक़ई छुट्टियाँ मनाने आई, इन्हें यही नहीं पता कि पांगी कश्मीर के नहीं जम्मू के करीब है : कांग्रेस

पिछले 10 वर्षों में हमारे राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क में 60 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यह 2014 में 91,287 किमी से बढ़कर 2023 में 146,145 किमी हो गया है। हमारे हवाई अड्डे दोगुने हो गए हैं। 2014 में यह 74 था, जो 2024 में बढ़कर 150 से अधिक हो गया है। हमने अपने बंदरगाहों की क्षमता बढ़ाई है।हमने अपने नागरिकों की सुविधा के लिए टेक-स्मार्ट "वंदे भारत" ट्रेनें शुरू की हैं और आम लोगों के लिए उड़ानों की सुविधा के लिए उड़ान योजना शुरू की है।

यह भी पढ़ें ||  लोकसभा चुनाव के बीच मिड-डे-मील कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, जारी हुए नए आदेश

हमने परिवर्तनकारी आर्थिक सुधार किए हैं।"हमारे भौतिक बुनियादी ढांचे के निर्माण और जलवायु परिवर्तन से लड़ने की हमारी प्रतिबद्धता के बीच कोई विरोधाभास नहीं है।वास्तव में, भारत एक विश्वसनीय मॉडल (modal) पेश करता है कि कैसे बुनियादी ढांचे का विकास किया जाए और फिर भी जलवायु परिवर्तन को कम करने में सबसे आगे कैसे रहा जाए। हमारी ताकत को देखते हुए, भारत को अब विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी ( compitition) लागत पर विश्व स्तरीय सामान बनाने के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है।

यह भी पढ़ें ||  पांगी किलाड़ में उमड़ा जनसैलाब, कंगना को आशीर्वाद देने 56 किलोमीटर दूर से पहुंचा बुजुर्ग

चाहे वह छत पर सौर कार्यक्रम के माध्यम से 10 मिलियन घरों को रोशन करना हो या सौर ऊर्जा से चलने वाले पंपों के माध्यम से किसानों को सशक्त बनाना हो, चाहे वह 400 मिलियन ऊर्जा कुशल बल्ब वितरित करना हो या 13 मिलियन कुशल स्ट्रीटलाइट्स की स्थापना सुनिश्चित करना हो या ईवी को सबसे तेजी से अपनाना सुनिश्चित करना हो।"एक लोकतांत्रिक (democracy) राजनीति और वैश्विक आर्थिक विकास इंजन के रूप में, भारत उन लोगों के लिए एक स्वाभाविक पसंद है जो अपनी आपूर्ति श्रृंखलाओं में विविधता लाना चाहते हैं।

जीएसटी, कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती, दिवालियापन संहिता, श्रम कानूनों में सुधार, एफडीआई मानदंडों में छूट।इन महत्वपूर्ण सुधारों से व्यापार करने में आसानी हुई है।हम अपने नियामक ढांचे (regular structure) , अपनी कराधान प्रथाओं के साथ-साथ अपने बुनियादी ढांचे को वैश्विक मानकों के अनुरूप लाने की कोशिश कर रहे हैं। दुनिया के लिए उत्पादन के अलावा, विशाल भारतीय घरेलू बाजार एक अतिरिक्त आकर्षण है।हमारा मानना ​​है कि अगर दुनिया की आबादी का छठा हिस्सा वाला देश इन क्षेत्रों में वैश्विक मानकों को अपनाता है, तो इसका दुनिया पर बड़ा सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

सुपर स्टोरी

Driving Licence New Rules || 1 जून से लागू होंगे नए नियम, हो जाएं सावधान वरना देना होगा 25 हजार का जुर्माना Driving Licence New Rules || 1 जून से लागू होंगे नए नियम, हो जाएं सावधान वरना देना होगा 25 हजार का जुर्माना
Driving Licence New Rules ||  आज के इस दौर में है कोई गाड़ियों का शौकीन है वही लगातार बढ़ रहे...
Credit Card का करते हैं इस्तेमाल तो भूलकर भी न करें ये गलती, क्रेडिट स्कोर हो जाएगा खराब
PHD के छात्र ने बनाया जबरदस्त रिकॉर्ड, अपने नाम किये 1000 से ज्यादा सर्टिफिकेट, यहां दर्ज हुआ नाम
Premanand ji Maharaj || प्रेमानंद महाराज ने बताया, भूलकर ना रखें ये दो चीज बकाया,
ATM Scam : कभी भी गलती से ATM मशीन के पास न करें यह काम, एक गलती से हो जाएंगे कंगाल, भयंकर स्कैम चल रहा
Aadhaar Related Crimes : जेल पहुंचा सकती है आधार से जुड़ी ये गलती, 10 लाख तक जुर्माना
Aadhaar Card After Death || मौत के बाद आधार कार्ड का क्‍या होगा? जानिए कैसे करें सरेंडर या बंद
Google Pay || 4 जून के बाद काम नहीं करेगा Google Pay, ऐप इस्तेमाल करने वाले जान लें जरूरी बात
बम की धमकी देने पर क्या मिलती है सजा? कभी गलती से भी ना दें किसी के साथ ये मजाक
भई वाह! ये 8 देश देते हैं 5000 रुपए से भी कम में विदेश घूमने का मौका, कम पैसों में कर आएं दुनिया की सैर