OPINION: हाई टेक है नया संसद भवन, सुरक्षा व्यवस्था ऐसी की परिंदा भी नहीं मार सकता पार, टेक्नोलॉजी से है लैस

OPINION: हाई टेक है नया संसद भवन, सुरक्षा व्यवस्था ऐसी की परिंदा भी नहीं मार सकता पार, टेक्नोलॉजी से है लैस

OPINION नई दिल्लीः नई संसद में विशेष सत्र शुरू हुआ है। इस बिल्डिंग में एक सुंदर इमारत के अलावा कई ऐसे सुविधाएं दी गई हैं जो आज की जरूरत हैं। बल्कि यह भविष्य में बदलने वाले हालात को भी पूरा करेगा। इन इंतजामों में सुरक्षा भी बहुत महत्वपूर्ण है। नई संसद भवन में स्टेट ऑफ आर्ट सिक्योरिटी अरेंजमेंट्स, यानी आदर्श सुरक्षा व्यवस्था दी गई है, तो यह बिल्कुल गलत नहीं होगा। 

Aggarwal-1
नए संसद भवन में भी पार्लियामेंट का सुरक्षा स्टाफ
पुराने संसद भवन की तरह, नए संसद भवन में भी पार्लियामेंट का सुरक्षा स्टाफ तैनात है। लेकिन इस बार सुरक्षा बलों के लिए विशेष परिस्थितियों में काम करने वाली नवीनतम वर्दी। संसद भवन के सुरक्षाकर्मी भी उसके कपड़े पहनेंगे। एक विशिष्ट प्रकार का कपड़ा है। ताकि संसद भवन सुरक्षा स्टाफ को किसी भी आपातकालीन परिस्थिति में चलने में परेशानी न हो।

पार्लियामेंट सुरक्षा कर्मचारी हथियारों के साथ संसद भवन में नहीं
पार्लियामेंट सुरक्षा कर्मचारी हथियारों के साथ संसद भवन में नहीं होंगे, और नए संसद भवन में भी ऐसा होगा। लेकिन उन्हें धीरे-धीरे आधुनिक ट्रेनिंग दी जाएगी। पार्लियामेंट सुरक्षा कर्मचारी सदन के भीतर और बाहर होते हैं। जब हम बाहरी कर्मचारियों की बात करते हैं, तो संसद भवन की सुरक्षा अर्धसैनिक बलों की जिम्मेदारी है। नई संसद भवन में भी सीआरपीएफ के जवान आउटर लेयर में हैं। इन अर्धसैनिक बलों के जवानों को विशेष तैयारियों के साथ नवनिर्मित संसद भवन में तैनात किया गया है।

संसद भवन में तैनात है, उसकी प्रोफाइलिंग की गई है यानी की नई संसद भवन में तैनाती से पहले उस जवान की कहां ड्यूटी थी. मसलन नक्सली इलाके में, कश्मीर में, नॉर्थ ईस्ट में या फिर दक्षिण भारत में. जिस जवान की दक्षता कुछ खास परिस्थिति के लिए है, उसे नए संसद भवन में तैनात किया गया है. हर जवान की पुख्ता जांच की गई है कि उसकी पारिवारिक पृष्ठभूमि क्या है और उसके संपर्क में कौन-कौन लोग हैं. नए परिसर में तैनात किए गए जवानों को 2 महीने की कमांडो ट्रेनिंग भी दी गई है ताकि किसी भी आपातकालीन स्थिति का वह मजबूती से मुकाबला कर सके और उसे फेल कर सकें. इस कमांडो ट्रेंनिंग माड्यूल को खास नई संसद भवन की सुरक्षा के मुताबिक ही तैयार किया गया है. इसके अलावा जवानों को मनोवैज्ञानिक यानी साइकोलॉजिकल ट्रेनिंग भी दी गई है. ऐसा इसलिए ताकि वह किसी भी तरीके के दबाव की स्थिति का मजबूती से मुकाबला कर सकें और उनके आसपास जो महत्वपूर्ण लोग हैं उनकी सुरक्षा वह बेहद पुख्ता तरीके से कर सकें.

यह भी पढ़ें ||  Chamba News || चंबा में 24 वर्षीय युवक की बेरहमी से हत्या, चार बहनों से छिन गया उनका इकलौता भाई

Focus keyword

Tags: OPINION

सुपर स्टोरी

वंदे भारत ट्रेन दिल्ली से कटरा के बीच चलेगी, वैष्णो देवी जाने वालों के लिए खुशखबरी वंदे भारत ट्रेन दिल्ली से कटरा के बीच चलेगी, वैष्णो देवी जाने वालों के लिए खुशखबरी
नई दिल्ली:  वैष्णो देवी मंदिर की यात्रा करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। तीर्थयात्रियों के लिए भारतीय रेलवे...
Chanakya Niti || वे कौन सी चीज़ें हैं जो बिना आग के भी शरीर को जलाती हैं, जानिए चाणक्य की नीति
Chanakya Niti || आप भी आज से ऐसे दोस्तों से आज ही बना लें दूरी, जानें क्या कहती है चाणक्य नीति
Best Hill Stations || जुलाई में घूमने के लिए ये जगह हैं बेहद खूबसूरत, देखने को मिलेंगे स्वर्ग जैसे नजारे
T20 World Cup Hat-Tricks || इन गेंदबाजों ने ली है टी20 वर्ल्ड कप में हैट्रिक, जानें किस-किस गेंदबाज ने किया ये कारनामा
Easy Tips to Stop Child Phone Addiction || बच्चे की मोबाइल यूज करने की लत छुड़ाने के लिए फॉलो करें ये आसान टिप्स
IRCTC Shimla Manali Package || IRCTC के इस पैकेज से GF संग घूमें शिमला-मनाली, जन्नत जैसे नजारों का होगा दीदार
World Population Review || PM मोदी से लेकर पुतिन, बाइडेन तक, इस नेता का वेतन सबसे ज्यादा
Success Story || आतंकी हमले के बाद सु​र्खियों में आई जम्मू की यह IPS Officer, जानिए इसके पिछे की पूरी वजह
क्या आप जानते है, अंगुली से पुरानी स्याही मिटी नहीं, तो कैसे होगा नया मतदान