Raksha Bandhan 2023: ऐसा कैसे हुआ कि 13 साल लता ने बात नहीं की दिलीप कुमार से, फिर बांध दी राखी!

Raksha Bandhan 2023: ऐसा कैसे हुआ कि 13 साल लता ने बात नहीं की दिलीप कुमार से, फिर बांध दी राखी!
Raksha Bandhan: लता मंगेशकर और दिलीप कुमार आज नहीं रहे, लेकिन हिंदी सिनेमा का इतिहास उनके नाम और काम के बिना कभी नहीं लिखा जा सकेगा। बड़े भाई और छोटी बहन के बीच प्यार था। लता मंगेशेकर दिलीप कुमार को राखी बांधती थीं। लेकिन व्यवसाय में आने के बाद अक्सर नहीं। बल्कि उन्होंने दिलीप कुमार […]

Raksha Bandhan: लता मंगेशकर और दिलीप कुमार आज नहीं रहे, लेकिन हिंदी सिनेमा का इतिहास उनके नाम और काम के बिना कभी नहीं लिखा जा सकेगा। बड़े भाई और छोटी बहन के बीच प्यार था। लता मंगेशेकर दिलीप कुमार को राखी बांधती थीं। लेकिन व्यवसाय में आने के बाद अक्सर नहीं। बल्कि उन्होंने दिलीप कुमार को एक बार इतना बुरा मान लिया था कि 13 साल तक अभिनय सम्राट से बात नहीं की। लेकिन बाद में, जब दोनों के गिले-शिकेव दूर हो गए, तो लता ने उन्हें राखी बांधने लगी, जिससे वे आखिरी वक्त तक भाई-बहन के रूप में रहे।

Raksha Bandhan Lata Mangeshkar Dilip Kumar Hindu-Muslim Super Story
लता मंगेशकर ने एक इंटरव्यू में दिलीप कुमार से नाराज होने के बारे में खुद कहा कि वह संगीतकार अनिल विश्वास और दिलीप कुमार के साथ एक दिन मुंबई की ट्रेन में थीं। तब परिचय भी गलत था। दिलीप कुमार को लता से परिचय कराते हुए अनिल विश्वास ने कहा कि यह लड़की बहुत अच्छी गाती है। तब दिलीप कुमार ने नाम पूछा और कहा कि नाम मराठी है। जब अनिल विश्वास ने स्वीकार किया दिलीप कुमार ने इस पर कहा कि मराठी लोगों की उर्दू दाल-चावल की तरह है। उनका अर्थ था कि वे सही उच्चारण नहीं कर सकते हैं। लता मंगेशकर को यह बुरा लगा।

यह भी पढ़ें ||  Anant-Radhika Pre-Wedding || सिर्फ दिलों का मेल नहीं दोनों की शादी,बिजनेस का भी तगड़ा फायदा

वास्तव में, दोनों ने ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्म मुसाफिर में लागी नाही छूटे नामक एक गाना साथ गाया था। लता ने गाना रिकॉर्ड किया और शानदार ढंग से गाया। दिलीप कुमार उनके सामने घबरा गए। लेकिन दिलीप कुमार की टिप्पणी से नाराज लता मंगेशकर ने 13 वर्ष की उम्र में भी उनसे बात नहीं की।

https://www.instagram.com/p/CRA_BnJHErk/?utm_source=ig_web_button_share_sheet

बाद में प्रसिद्ध लेखक खुशवंत सिंह ने अगस्त 1970 में अपने संपादन में निकलने वाली पत्रिका द इलस्ट्रेडेट विकली ऑफ इंडिया में स्वतंत्रता दिवस विशेषांक में दोनों हस्तियों को एक साथ लाने का विचार किया। लता मंगेशकर को दिलीप कुमार के घर लाने का काम वरिष्ठ पत्रकार राजू भारतन को सौंप दिया गया। खुशवंत सिंह ने विचार दिया कि दिलीप कुमार को लता मंगेशकर की राखी बांधी जाएगी और चित्र को पत्रिका के कवर पर लगाया जाएगा। हिंदू-मुस्लिम भाई-भाई शीर्षक से खुशवंत सिंह ने इस तस्वीर को छापा और पत्रिका का वह अंक देखते-देखते लोगों ने खरीद लिया। दिलीप कुमार और लता मंगेशकर के साथ यह पहला अवसर था। किंतु तस्वीर सिर्फ प्रदर्शन की नहीं रही थी। दोनों ने भाई-बहन की तरह एक-दूसरे को स्वीकार किया और पूरी जिंदगी के लिए एक रिश्ते में बंध गए।

ट्रेंडिंग

Anti Hangover Medicine || मार्केट में आ गई है शराबियों के लिए एंटी हैंगओवर Myrkl गोली, लिवर पर नहीं पड़ेगा अब बुरा असर Anti Hangover Medicine || मार्केट में आ गई है शराबियों के लिए एंटी हैंगओवर Myrkl गोली, लिवर पर नहीं पड़ेगा अब बुरा असर
हाइलाइट्समार्केट में आ गई है शराबियों के लिए एंटी हैंगओवर Myrkl गोली60 मिनट के भीतर पी गई 70 प्रतिशत शराब...
UPSC Exam || IAS और IPS अधिकारी बनने के लिए कौन सी डिग्री सबसे अच्छी है? जानिए यूपीएससी की तैयारी कैसे करें
Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर अब अरबपति तक पीने आते हैं चाय
IPS Officer Success Story || IPS पति-पत्नी का अनोखा अंदाज, काम करने का अलग अंदाज, लोग करते हैं तारीफ
Success Story || 42 साल की मां ने अपने 24 साल के बेटे के साथ पास की PCS की परीक्षा, दोनों एक साथ बने अफसर
PPI Card For Public Transport || RBI ने दी बैंको को दी ये मंजूरी, रेल, मेट्रो, बस, पार्किंग पेमेंट होगा आसान