बड़ी उपलिब्ध || हिमाचल की बेटी ने हासिल किया बड़ा मुकाम, बनी नर्सिंग ऑफिसर, पिता के आंखों से छलके खुशी के आंसू

बड़ी उपलिब्ध || हिमाचल की बेटी ने हासिल किया बड़ा मुकाम, बनी नर्सिंग ऑफिसर, पिता के आंखों से छलके खुशी के आंसू

बड़ी उपलिब्ध ||  हमीरपुर। हिमाचल की बेटियां आज हर क्षेत्र में बड़े बड़े मुकाम हासिल कर रही हैं। हिमाचल के छोटे छोटे गांवों से निकल कर यह बेटियां हर क्षेत्र में अपना और अपने परिवार का नाम रौशन कर रही हैं। यही नहीं अपने बेटों की ही तरह घर चलाने में भी बेटियां अपनी अहम भूमिका […]

बड़ी उपलिब्ध ||  हमीरपुर। हिमाचल की बेटियां आज हर क्षेत्र में बड़े बड़े मुकाम हासिल कर रही हैं। हिमाचल के छोटे छोटे गांवों से निकल कर यह बेटियां हर क्षेत्र में अपना और अपने परिवार का नाम रौशन कर रही हैं। यही नहीं अपने बेटों की ही तरह घर चलाने में भी बेटियां अपनी अहम भूमिका निभा रही हैं। ऐसी एक बेटी ने अपनी मेहनत से बड़ा मुकाम हासिल किया है। यह बेटी स्वास्थ्य के क्षेत्र में बड़ी अधिकारी बन गई है। यह बेटी हिमाचल के हमीरपुर जिला की रहने वाली है।

हमीरपुर के बड़सर की रहने वाली है नीना कुमारी

मिली जानकारी के अनुसार हमीरपुर जिला के विधानसभा क्षेत्र बड़सर की बेटी नीना कुमारी ने अखिल भारतीय स्तर की नॉर्सैट-5 परीक्षा पास कर नर्सिंग ऑफिसर का पद हासिल किया है। नीना कुमारी ने अखिल भारतीय स्तर की इस परीक्षा को पास कर देश भर में 1778वां रैंक हासिल किया है। जिसके चलते नीना कुमारी अब एम्स ऋषिकेश में बतौर नर्सिंग ऑफिसर बन कर अपनी सेवाएं देगी।

यह भी पढ़ें ||  HPPSC Notification 2024 || हिमाचल लोक सेवा आयोग ने इन पदों पर शुरू की भर्ती, इस दिन से पहले कर लें आवेदन

घर के आर्थिक हालात ठीक ना होने पर भी पाया बड़ा मुकाम

बड़सर विधानसभा क्षेत्र के गांव सकरोह डाकघर बिहरु की रहने वाली नीना कुमारी के पिता रमेश चंद एक टैक्सी चालक हैं, जबकि माता नजनी देवी एक गृहिणी हैं। घर की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के बाद भी नीना कुमारी ने हार नहीं मानी और ना ही उसके पिता ने बेटी के मार्ग में आर्थिकी को बाधा नहीं बनने दिया।  नीना के पिता ने कड़ी मेहनत की और बेटी को नर्सिंग का कोर्स करवाया। जिसका नतीजा है कि आज नीना कुमारी ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में बड़ा मुकाम हासिल कर अपने पिता की मेहनत को सफल कर दिया। बता दें कि नीना कुमारी ने साल 2018 में बीएससी नर्सिंग की डिग्री हासिल कर ली थी। जिसके बाद उसके पिता का सपना था कि बेटी नर्सिंग ऑफिसर बने। लेकिन उन्हंे बेटी की शादी करनी पड़ी।

यह भी पढ़ें ||  Trending Quiz || भारत की सबसे छोटी तहसील कौन-सी है || Smallest Tehsil Indian ||

बड़ी उपलिब्ध || हिमाचल की बेटी ने हासिल किया बड़ा मुकाम, बनी नर्सिंग ऑफिसर, पिता के आंखों से छलके खुशी के आंसू
बड़ी उपलिब्ध || हिमाचल की बेटी ने हासिल किया बड़ा मुकाम, बनी नर्सिंग ऑफिसर, पिता के आंखों से छलके खुशी के आंसू

वर्ष 2019 में नीना कुमारी की शादी कर दी। लेकिन उसके बाद भी उसके पिता ने बेटी को नर्सिंग ऑफिसर बनाने के लिए अपनी सारी जमा पूंजी लगा दी और उसे कोचिंग दिलवाई। वहीं बेटी नीना ने भी पिता के संघर्ष को देखते हुए कड़ी मेहनत की और पहले ही प्रयास में नर्सिंग की परीक्षा पास कर आज नर्सिंग अधिकारी बन गई।  बता दें कि देश भर में नर्सिंग ऑफिसर के कुल 4094 पदों के लिए इस परीक्षा का आयोजन किया गया। इस परीक्षा में 20815 अभ्यर्थियों को प्रारंभिक परीक्षा से चयन हुआ। उसके बाद 9140 अभ्यर्थी मेन्स पेपर में चयनित हुए थे। इन्हीं अभ्यर्थियों में नीना कुमारी का नाम भी शामिल हुआ और आज वह एम्स ऋषिकेश में नर्सिंग अधिकारी बन गई है।

यह भी पढ़ें ||  General Knowledge Trending Quiz || इंडिया में व्हाट्सएप कब लॉन्च हुआ था?

Focus keyword

Tags:

ट्रेंडिंग

Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर अब अरबपति तक पीने आते हैं चाय Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर अब अरबपति तक पीने आते हैं चाय
Dolly Chaiwala Story || चाय के चक्कर में छोड़ी पढ़ाई, स्वाद और अंदाज से मिली शोहरत, 'डॉली' की टपरी पर...
IPS Officer Success Story || IPS पति-पत्नी का अनोखा अंदाज, काम करने का अलग अंदाज, लोग करते हैं तारीफ
Success Story || 42 साल की मां ने अपने 24 साल के बेटे के साथ पास की PCS की परीक्षा, दोनों एक साथ बने अफसर
PPI Card For Public Transport || RBI ने दी बैंको को दी ये मंजूरी, रेल, मेट्रो, बस, पार्किंग पेमेंट होगा आसान
Success Story || 1.5 लाख महीने की सरकारी नौकरी छोड़ बने IAS, जॉब के साथ की तैयारी, UPSC में पाई 8वीं रैंक
kalyanaraman Success Story || कभी कर्ज लेकर शुरू की थी सोने की दुकान, आज खड़ी कर दी 17,000 करोड़ की कल्याण ज्वेलर्स कंपनी