संशोधन नीति

विज्ञापन

हम अपने पाठकों द्वारा कमेंट्स, मेल और फोन के जरिए दिए गए सुझावों और प्रतिक्रिया का खुले दिल से स्वागत करते हैं। कंटेंट को लेकर अपने पाठकों से अगर किसी तरह की कोई शिकायत मिलती है तो हम तुंरत ही उस खबर को रोक देते हैं और सबसे पहले फैक्ट्स को चेक करते हैं। फैक्ट्स की हर प्रकार से जांच के बाद ही हम खबर को प्रकाशित करते हैं। फैक्ट्स की प्रामाणिकता और प्रभाव को देखते हुए मिस्टेक/एरर को हम हटा या सुधार देते हैं और अपने पाठकों को इस संबंध में पूरी जानकारी देते हैं। अगर, खबर में किसी तरह की कोई गलती नहीं है तो उसके बारे में भी अपने पाठकों को बताते हैं। इस दौरान हम अपने पाठकों को पूरी प्रक्रिया से अवगत कराते हैं कि हम इस नतीजे पर कैसे पहुंचे हैं, ताकि किसी तरह संदेह की गुंजाइश न रहे।

संशोधन/सुधार पॉलिसी के अनुसार, हमने मिस इन्फॉर्मेशन के खिलाफ अपनी लड़ाई को मजबूती देने के लिए एक बेहतरीन टीम खड़ा दिया है। हम नियमित तौर पर वेबसाइट्स पर नजर रखते हैं, ताकि किसी तरह की कोई भी मिस इन्फॉर्मेशन या फेक खबर हो तो उसे तुरंत चेक कर अपने सुधि पाठकों को सही स्थिति के बारे में अवगत करा सकें। हम सोशल मीडिया या अन्य वेबसाइट्स पर चल रहे मिस इन्फॉर्मेशन या फेक न्यूज का फैक्ट चेक करते समय इंटरनेशनल फैक्ट चेकिंग नेटवर्क की गाइडलाइंस को पूरी तरह से फॉलो करते हैं। इसके लिए Patrika News Himachal ने स्डैंडर्ड ऑपरेटिंग पॉलिसी (SOP) बनाई हुई है, जिसका सख्ती से पालन करना टीम के प्रत्येक सदस्य के लिए जरूरी है। हम उन सभी स्टोरी को रिकॉर्ड में भी रखते हैं जिसमें किसी तरह का संशोधन/सुधार किया गया हो या जिसमें सुधार की जरूरत है।

विज्ञापन
वायरल न्यूज़
फिल्मी दुनियां
आम-मुद्दा
हमारी टीम
Back to top button
Snow